पाकिस्तान: अब चुनाव लड़ेगा मुंबई हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद

लाहौर : मुंबई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड और वैश्विक आतंकवादी हाफिज सईद पाकिस्तान में अगले साल होने वाले आम चुनाव में लड़ेगा। शनिवार को चाऊबुर्जी स्थित जमात-उद-दावा के मुख्यालय पर संवाददाताओं के सामने उसने यह घोषणा की। हालांकि, उसकी पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग को पाकिस्तान चुनाव आयोग से मान्यता नहीं मिली है।

इस साल के शुरू में जमात-उद-दावा द्वारा बनाई गई राजनीतक पार्टी मिल्ली मुस्लिम लीग (एमएमएल) ने आम चुनाव लड़ने की बात कही थी। यह पहली बार है जब सईद ने खुले तौर पर अगले साल होने वाले आम चुनाव में उतरने की बात कही है। इससे पहले सईद चुनावों में नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल (एन) का समर्थन करता रहा है। एमएमएल को पाकिस्तान चुनाव आयोग द्वारा मान्यता नहीं मिली हुई है, लेकिन बावजूद इसने लाहौर उपचुनाव में प्रॉक्सी उम्मीदवार खड़े किए थे। इस चुनाव में नवाज की पत्नी कम अंतर से जीत हासिल की थी।

संवाददाताओं से बातचीत में सईद ने साफ कहा कि वह एमएमएल उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेगा। उसने कहा कि उसकी पार्टी कश्मीर में स्वतंत्रता मांग रहे लोगों के लिए समर्पित है। जमात-उद-दावा ने इस साल अगस्त में मिल्ली मुस्लिम लीग पार्टी का गठन किया था। हालांकि पाकिस्तान चुनाव आयोग ने इसको राजनीतिक दल की मान्यता देने से दो बार इनकार कर चुका है। पाकिस्तान में कई विशेषज्ञों का मानना है कि अगर एमएमएल को चुनाव आयोग की मान्यता नहीं मिलेगी तो सईद प्रॉक्सी उम्मीदवार या किसी और पार्टी से खड़ा हो सकता है। गौरतलब है कि पाकिस्तान में सईद को 10 महीने तक नजरबंद रखे जाने के बाद उसे कुछ दिन पहले रिहा किया है।

सईद ने कहा कि मैं भी 2018 को उन कश्मीरियों के नाम करता हूं जो स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

इस साल जनवरी से नजरबंद रहे सईद को पाकिस्तान सरकार द्वारा किसी अन्य मामले में आगे और हिरासत में न रखने का फैसला करने के बाद 24 नवंबर को रिहा कर दिया गया ।

सईद ने कहा, ”मैं भारत को बताना चाहता हूं कि मैं कश्मीरियों को समर्थन देना जारी रखूंगा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वहां क्या मुसीबतें हैं। भारत चाहता है कि हम कश्मीरियों के लिए आवाजें उठानी बंद कर दें। वह पाकिस्तान सरकार पर दबाव बना रहा है। मैं पाकिस्तान को बताना चहता हूं कि पर्दे के पीछे से जारी कूटनीति ने केवल कश्मीर के मुद्दे को नुकसान पहुंचाया है।”

गौरतलब है कि हाफिज सईद को पाकिस्तान ने जनवरी 2017 में नजरबंद किया था। लेकिन नवंबर में उसे रिहा कर दिया गया। रिहा होते ही हाफिज ने कहा था वह कश्मीर की लड़ाई के लिए पूरे पाकिस्तान से लोगों को इकट्ठा करेगा और कश्मीरियों को आजादी दिलाने में मदद करेगा।

26/11 मुंबई आतंकी हमले में 166 लोगों की जान चली गई थीं। पाकिस्तान में आज आजाद घूम रहा हाफिज सईद लगातार कराची से मंबई में बैठे आतंकवादियों को निर्देश दे रहा था। सईद भारत की सर्वाधिक वांछित अपराधियों की सूची में शामिल है। अमेरिका ने चार बड़े चरमपंथियों पर एक करोड़ डॉलर का इनाम रखा है। लश्कर-ए-तैयबा का संस्थापक हाफिज मोहम्मद सईद उन चार आतंकवादियों में से एक है जिन पर अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर के इनाम की घोषणा की है। भारत लगातार पाकिस्तान से हाफिज को सौंपने को कहता रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *