हर गांव-हर घर में बिजली पहुंचाने 26 हजार करोड़ की अधोसंरचना विकसित: डॉ. रमन सिंह

रायपुर : मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि प्रदेश के हर गांव और हर घर में बिजली की रौशनी पहुंचाने के लिए विद्युत उत्पादन तथा वितरण व्यवस्था को दुरूस्त करने 26 हजार करोड़ रुपए की अधोसंरचना विकसित की गई है। एकल बŸाी के माध्यम से गरीब परिवारों के घर रौशन करने के लिए एक हजार 800 करोड़ रुपए सब्सिडी दी गई। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य सरकार के चौदह वर्ष पूरे होने के अवसर पर राजनांदगांव में आयोजित सौभाग्य योजना के प्रदेश स्तरीय शुभारंभ एवं श्रमिक सम्मेलन में यह बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि अप्रैल 2018 तक प्रदेश हर मजरे-टोले में बिजली पहुंचाई जाएगी। सौभाग्य योजना के माध्यम से हर घर में बिजली कनेक्शन उपलब्ध कराया जाएगा। प्रदेश के सभी गाँव पूर्ण रूप से प्रकाशवान होंगे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लोगों के साथ चौदह वर्षों की उपलब्धि भी साझा की। उन्होंने कहा कि सबको बिजली उपलब्ध कराने के मामले में छŸाीसगढ़ देश का अग्रणी राज्य है। प्रदेश के विŸाीय प्रबंधन की प्रशंसा अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी ने भी की है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि आज सभास्थल पर मैं श्रम विभाग के हितग्राहियों से मिला। मुख्यमंत्री ई-रिक्शा सहायता योजना से 100 हितग्राहियों ने अपना नया काम शुरू किया है। कुछ लोगों ने ई-रिक्शा में ही दुकान खोल ली है। यह देखना बहुत सुकून देता है। सिलाई मशीन और साइकिल पाकर खिले हुए चेहरों को देखना बहुत सुख देता है। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर बोरी में वेटरनरी हास्पिटल, महिला भवन तथा स्कूल में कंप्यूटर प्रदाय करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बोरी जलाशय के लिए 2 करोड़ रुपए देने की घोषणा भी की साथ ही गठुला एनीकट के लिए भी 2 करोड़ रुपए की राशि की घोषणा की।
इस अवसर पर आम जनता को संबोधित करते हुए सांसद श्री अभिषेक सिंह ने कहा कि सौभाग्य योजना के माध्यम से हर घर में बिजली पहुँच रही है। जहाँ वोल्टेज की समस्या थी, ऐसे जगहों में बेहतर वोल्टेज उपलब्ध कराने के लिए निरंतर कार्य किए जा रहे हैं। पूरे प्रदेश में इसके लिए विद्युत उपकेंद्र खोले जा रहे हैं। बोरी में खुले उपकेंद्र से निकट के 18 गाँवों के 23000 से अधिक उपभोक्ताओं को लाभ मिलेगा। सांसद श्री सिंह ने कहा कि किसान सोसायटी में खुलकर अपना धान बेचें, फसल बीमा और सूखा राहत से इसका संबंध नहीं है। इसके लिए फसल कटाई प्रयोग और सर्वे कर लिया गया है। इस मौके पर अतिथियों ने सौर ऊर्जा आदर्श ग्राम भी देखा तथा क्रेडा के माध्यम से लाभ ले रहे हितग्राहियों से भी मिले।
प्रबंध संचालक सीएसपीडीसीएल श्री अंकित आनंद ने प्रदेश भर में सौभाग्य योजना के लक्ष्यों और इसके माध्यम से प्राप्त किए जाने वाले उद्देश्यों की जानकारी दी। साथ ही ऊर्जा क्षेत्र में छŸाीसगढ़ की उपलब्धियों तथा हो रहे कार्यों की जानकारी भी दी। इस मौके पर 20 सूत्रीय कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष श्री खूबचंद पारख, अध्यक्ष क्रेडा श्री पुरंदर मिश्रा, अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष श्री रामजी भारती, राज्य समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष श्रीमती शोभा सोनी, राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष श्री नीलू शर्मा, राज्य ऊर्दू अकादमी के अध्यक्ष श्री अकरम कुरैशी, सन्निर्माण एवं अन्य कर्मकार मंडल के अध्यक्ष श्री मोहन एंटी, छŸाीसगढ़ गृह निर्माण मंडल के अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र सवन्नी, विधायक डोंगरगढ़ श्रीमती सरोजनी बंजारे, राजनांदगांव नगर निगम के महापौर श्री मधुसूदन यादव, नागरिक आपूर्ति निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री लीलाराम भोजवानी, पाठ्यपुस्तक निगम के पूर्व अध्यक्ष श्री अशोक शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती चित्रलेखा वर्मा, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष श्री सचिन बघेल, राज्य हाउसिंग बोर्ड के सदस्य श्री नरेश डाकलिया, राजगामी संपदा न्यास के अध्यक्ष श्री रमेश पटेल सहित अन्य जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी भी उपस्थित थे।
बिहान, जनमन और गौरवगाथा का विमोचन
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम में बिहान, जनमन और गौरवगाथा का विमोचन किया। बिहान पुस्तिका में स्वसहायता समूहों के जिले में चल रहे कार्यों और उपलब्धियों को सफलता की कहानी के रूप में संग्रहित कर प्रकाशित किया गया है। जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित की गई राजनांदगांव जिले की गौरवगाथा में जिले की 14 सालों की उपलब्धियों का संकलन किया गया है। साथ ही जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रकाशित की जाने वाली मासिक पत्रिका जनमन का विमोचन भी किया।
बिजली तिहार में 45 करोड़ रूपए के विकास कार्यो की सौगात
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर 45 करोड़ 84 लाख रूपए के विकास कार्यों का भूमिपूजन एवं लोकार्पण किया। उन्होंने 41 करोड़ 9 लाख रूपए के सात कार्यो के लिए भूमिपूजन तथा 2 करोड़ 52 लाख रूपए के 2 कार्यो का लोकार्पण किया। ग्राम बोरी में एक करोड़ 57 लाख रूपए की लागत से बना 3311 के.व्ही. उपकेन्द्र का भी लोकार्पण हुआ। इस उपकेन्द्र से 19 गांवों के 23 हजार 776 विद्युत उपभोक्ता लाभान्वित होंगे। उन्हें पर्याप्त वोल्टेज पर बिजली उपलब्ध होगी। बोरी में 95 लाख 35 हजार रूपए की लागत से बने शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला भवन का लोकार्पण भी किया। पीएमजीएसवाई के द्वारा पटेवा से बिजेतला तक 5 करोड़ 94 लाख रूपए की लागत से, पटेवा से पेण्ड्री तक 6 करोड 3़ लाख रूपए की लागत से, गठुला से तुमड़ीलेवा तक 5 करोड़ 50 लाख रूपए की लागत से और मुढ़ीपार से मनगट्टा तक 5 करोड़ 66 लाख रूपए की लागत से बनने वाले सड़कों का भूमिपूजन किया। धामनसरा मोहड़ में 10 करोड़ 65 लाख रूपए की लागत से एनीकट बनेगा, जिससे 240 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी। मुख्यमंत्री ने इसके लिए भी भूमिपूजन किया। कन्हारपुरी में बाढ़ नियंत्रण के लिए 6 करोड़ 28 लाख रूपए की लागत से पार्रीनाला के तट को सुरक्षित किया जायेगा। इसके साथ ही एक करोड़ की लागत से उर्वरक गुण नियंत्रण प्रयोगशाला भवन का भूमिपूजन भी मुख्यमंत्री किया।

Leave a Reply