धवन की शतकीय पारी के साथ सीरीज भारत के नाम

नई दिल्ली: युजवेन्द्र चहल और कुलदीप यादव के कमाल के बाद शिखर धवन की नाबाद शतकीय पारी(100*) की बदलौत भारतीय क्रिकेट टीम ने फाइनल बन चुके तीसरे और अंतिम वनडे में श्रीलंका को 8 विकेट से हरा दिया. श्रीलंका को 215 रनों पर समेटने के बाद टीम इंडिया ने दो विकेट खोकर 107 गेंद पहले हासिल कर लिया. दिनेश कार्तिक(26 नाबाद) ने धनंजय सिल्वी की गेंद पर चौका लगाकर सीरीज भारत के नाम किया.

धर्मशाला में खेले गए पहले वनडे में भारत को शर्मनाक हार झेलनी पड़ी थी लेकिन उसके बाद रोहित शर्मा की अगुवाई में टीम ने मोहाली और विशाखापट्टनम में शानदार खेल दिखाते हुए सीरीज अपने नाम कर लिया. 216 के आसान लक्ष्य को हासिल करने उतरी भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही. दूसरे वनडे में तीसरा दोहरा शतक लगाने वाले कप्तान रोहित शर्मा सिर्फ सात रन बनाकर पवलेयन लौट गए लेकिन उसके बाद धवन और श्रेयस अय्यर(65) ने दूसरे विकेट के लिए 15 रनों की साझेदारी कर जीत की कहानी लिख दी.

अय्यर ने लगातार दूसरे वनडे में अर्द्धशतक लगाया लेकिन एक बार फिर अपनी पारी को शतक में नहीं बदल पाए. दूसरी तरफ बेहतरीन फॉर्म में चल रहे धवन ने अपनी पारी वहीं से शुरू की जहां उन्होंने मोहाली में खत्म की. 85 गेंद की अपना पारी में धवन ने 13 चौके और दो बेहतरीन छक्के लगाए. अपनी शतकीय पारी के दौरान वो 4000 रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बने. भारत की ओर से कोहली के बाद धवन सबसे तेज 4000 रन बनाने वाले बल्लेबाज बने.

भारत ने इस तरह से लगातार आठवीं बार दो देशों के बीच खेली गई वनडे सीरीज जीती और श्रीलंका के खिलाफ होम ग्राउंड पर कोई सीरीज नहीं गंवाने का अभियान जारी रखा. धर्मशाला में पहला वनडे जीतने वाले श्रीलंका के पास भारत में पहली बार सीरीज जीतने का बेहतरीन मौका था लेकिन फिर से उसके बल्लेबाजों ने उसे निराश किया. श्रीलंका 1997 के बाद से भारत के खिलाफ सीरीज नहीं जीत पाया है.

भारत ने इससे पहले श्रीलंका से टेस्ट सीरीज 1-0 से जीती थी. अब इन दोनों टीमों के बीच टी20 सीरीज खेली जाएगी जिसका पहला मैच 20 दिसंबर को कटक में खेला जाएगा.

इससे पहले भारत के कप्तान रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया और अंत में यह फैसला सही साबित हुआ. उपुल थंरगा (95) और सादिरा सामराविक्रमा (42) ने दूसरे विकेट के लिए 121 रनों की साझेदारी को छोड़ दें तो एक भी पल ऐसा नहीं आया जिससे कप्तान रोहित परेशान होते.

भारतीय गेंदबाजों ने थरंगा और समाराविक्रमा की साझेदारी को तोड़ते हुए मैच में वापसी की और श्रीलंका को 44.5 ओवरों में 215 रनों पर ढेर कर दिया.

भारत के लिए युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने तीन-तीन विकेट लिए. हार्दिक पांड्या ने दो विकेट लिए. भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह को एक-एक विकेट मिला.

15 रनों के कुल स्कोर पर बुमराह ने जब दानुष्का गुणाथिलका (13) को पवेलियन भेजा तो लगा की भारतीय गेंदबाज दूसरे मैच की तरह ही श्रीलंकाई विकटों की झड़ी लगा देंगे, लेकिन थरंगा ने अपने अनुभव का बखूबी इस्तेमाल किया और समाराविक्रमा के साथ पारी को संभाला.

थरंगा ने हार्दिक पांड्या द्वारा फेंके गए पारी के नौवें ओवर में लगातार पांच चौके जड़े. इसके बाद उन्होंने अपना अर्द्धशतक पूरा किया, लेकिन वह अपने शतक से पांच रनों से चूक गए. 82 गेंदों पर 12 चौके और तीन छक्के मारने वाले थरंगा कुलदीप की गेंद पर महेंद्र सिंह धौनी द्वारा स्टम्प कर दिए गए.

थरंगा ने इस साल वनडे में अपने 1000 रन पूरे किए. वह इस साल ऐसा करने वाले तीसरे बल्लेबाज बने. उनसे पहले विराट कोहली और रोहित शर्मा ने ऐसा किया है.

थरंगा 160 के कुल स्कोर पर आउट हुए. उनसे पहले चहल ने समाराविक्रमा को अर्द्धशतक पूरा नहीं करने दिया और 136 के कुल स्कोर पर शिखर धवन के हाथों कैच कराया. इन दोनों बल्लेबाजों के जाने के बाद श्रीलंकाई पारी संभल नहीं पाई और लगातार विकेट खोती रही.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *