रायपुर सहित जिले भर के ढाबों, होटलों व मैरिज पैलेसों की आकस्मिक जांच: लकड़ी का उपयोग करने वाले दो ढाबों को किया गया सील

ढाबा, होटलों व मैरिज पैलेसों की आकस्मिक जांच जारी: लकड़ी का उपयोग करने वाले दो ढाबों को किया गया सील जिन ढाबों में मिली गदंगी: वहां से लिए गए खाद्य सामग्रियों के सेंपल

लकड़ी व टायर जलाते पाए जाने पर अफताब टायर वर्क्स को कराया गया बंद अधिकांश मैरिज पैलेसों में पार्किंग की जगह व सीसीटीव्ही कैमरे की नही मिली व्यवस्था  

निर्देशों का पालन नहीं करने वालों पर धारा 188 के तहत की जा रही कार्यवाही 

रायपुर, कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी ने निर्देशन पर बीते दिनों   राजस्व, पुलिस व पर्यावरण मण्डल की संयुक्त टीमों द्वारा राजधानी रायपुर सहित जिले के प्रमुख मार्गो व आरंग और अभनपुर क्षेत्रों में संचालित ढाबों, होटलों व मैरिज पैलेसों की आकस्मिक जांच की गई। जांच टीम ने दो ढाबों में ईंधन के रूप में लकड़ी का उपयोग करते हुए पाए जाने पर उन्हें तत्काल बंद कराया। इसी तरह रावाभाठा में अफताब टायर वर्क्स को लकड़ी और टायर को जलाते हुए पर्यावरण प्रदूषण करते हुए पाया गया, जिस पर त्वरित कार्यवाही करते हुए उसे तत्काल बंद कराया गया। इसी तरह मैरिज पैलेसों की जांच में अधिकांश स्थानों में पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था तथा सीसीटीव्ही कैमरे लगे होना नही पाया गया, जिन्हें चेतावनी देते हुए तत्काल व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया।
गौरतलब है कि पर्यावरण प्रदूषण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा राजधानी रायपुर सहित जिले में संचालित ढाबों व होटलों के तंदूर में केवल रोटी के लिए ही लकड़ी के गुटके व लकड़ी के कोयले की अनुमति प्रदान की गई है।
इसके लिए कलेक्टर श्री ओ.पी. चौधरी ने गत दिवस ढाबा व होटल संचालकों की बैठक लेकर उन्हें 20 दिसंबर तक व्यावसायिक गैस सिलेण्डरों की व्यवस्था करने के निर्देश दिए थे तथा इसके बाद निर्देशों का उल्लघंन पाए जाने पर संबंधितों के विरूद्ध धारा 188 के तहत आवश्यक दण्डात्मक कार्यवाही करने को कहा गया था। कलेक्टर ने इसके साथ ही राजधानी रायपुर में सुगम यातायात के लिए मैरिज पैलेसों में पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था सहित अन्य आवश्यक व्यवस्था भी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए थे। कलेक्टर ने ढाबों, होटलांें व मैरिज पैलसों में दिए गए निर्देशों के परिपालन की आकस्मिक जांच के लिए राजस्व, पुलिस व पर्यावरण संरक्षण मण्डल के अधिकारियों की 8 अलग-अलग टीम भी गठित की है। इन टीमों द्वारा अपने-अपने क्षेत्रांतर्गत संचालित ढाबों, होटलों व मैरिज पैलेसों की आकस्मिक जांच भी आज से शुरू कर दी गई है।
जांच टीम ने आज आरंग के लखौली क्षेत्र में सिंह ढाबा व खम्तराई में साई ढाबा में ईधन के रूप में लकड़ी का उपयोग करते हुए पाया, जिन्हें तत्काल बंद कराया गया। इसी तरह रावाभाठा में अफताब टायर वर्क्स द्वारा लकड़ी व टायर को जलाते पाए जाने पर उसे भी तत्काल बंद कराया गया। जांच टीम ने दीनदयाल उपाध्याय नगर में कामाख्या ढाबा और द किचन में गंदगी पायी जहां से खाद्य सामग्रियों के सेंपल जांच के लिए एकत्रित किए गए। जांच टीम ने देर रात  करीब 50 से अधिक ढाबों, होटलों व मैरिज पैलेसों की जांच की जिसमें अधिकांश में निर्देशों का पालन करते हुए पाया गया।

Leave a Reply