अघरिया समाज की महासभा बागबाहरा के चंडी मंदीर में संपन्न:आडंबर युक्त सामाजिक कार्यक्रम आयोजन से बचते हुए फिजूल खर्ची पर रोक लगाने की अपील

 सामाजिक नियमावली ,आचार संहीता में आवश्यक आंशिक संशोधन प्रस्ताव पारित एवं कड़ाई से पालन का निर्णय
महासमुंद , पिथौरा  ,नितिन गुप्ता ।:- , महासमुंद जिले के बागबाहरा ब्लॉक में बीते दिनों  भारतीय अघरिया समाज का महासभा केन्द्रीय समिति के तत्वावधान में चंडी मंदीर परिसर में हजारों समाजजनों की उपस्थिति में संपन्न हुआ।   आकर्षक माता चण्डी कलश यात्रा एवं ईष्ट देव श्रीकृष्ण के आराधना के साथ महासभा का आगाज हुआ । आयोजन समिति की ओर से क्षेत्रीय अध्यक्ष  शंकर कौशिक बागबाहरा, सादराम पटेल पिथौरा,हीरा पटेल महासमुंद ने क्रमश: स्वागत भाषण एवं महासभा आयोजन पर प्रतिवेदन वाचन कर  आगंतुको का स्वागत किया। केन्द्रीय कोषाध्यक्ष पुरुषोत्तम पटेल ने लेखा जोखा प्रस्तुत करते हुए कहा कि समाज के लोगों की रुचि और पदाधिकारियों की सक्रियता से साल भर में 247 लोगों ने संरक्षक सदस्यता ग्रहण किया।लगभग 22 लाख रुपये समाज के खाता में जमा होने का लेखा भी प्रस्तुत किया जिसे सर्वसहमति से पास किया गया ।विगत 3 साल की गतिविधियों का प्रतिवेदन सचिव दीनदयाल पटेल ने रखा । नियमावली व आचार संहिता का पठन करके वरिष्ठ उपाध्यक्ष भुवनेश्वर पटेल ने समयानुकूल आवश्यक संशोधन हेतु प्रस्ताव रखा ।क्षेत्रीय समितियों द्वारा प्रेषित  संशोधन प्रस्तावों पर महासचिव चितरंजय पटेल ने सदस्यों से सहमति माँगी ।सहमति एवं बहुमत के आधार पर कई धाराओं के नियमों में संशोधन  का निर्णय हुआ।
“महासभा में निम्नांकित विषय को संसोधन हेतु लाया गया :- 2018 से सभी क्षेत्रों एवं केंद्र के सभी पदाधिकारियों का कार्यकाल एक बार की होगी अर्थात “एक ब्यक्ति एक पद एक कार्यकाल”होगी।
मृतक भोज एवं दशकर्म में सीमित भोज को  प्रोत्साहित की जाएगी दो पकवान में सिर्फ दो बड़ा दो जलेबी के अलावा और मीठा परोसना वर्जित करने सहमति बनी,उलंघन पर अर्थदण्ड,भोजन उपरांत पत्तल उठाने की परंपरा को प्रोत्साहन हेतु सहमति बनी ,जूता चोरी प्रथा अनिवार्य रूप से बन्द करने पर सहमति बनी,लग्नपूजा एवं अंगूठी रस्म को एक ही दिन करने पर सहमति बनी,अंतत: व्यापक विचार विमर्श एवं चर्चा परिचर्चा पश्चात सहमति अनुसार सामाजिक नियमावली में आवश्यक संश़ोधन किया गया ।शासन के बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान से समाज को जोड़कर कन्या भ्रूण हत्या रोकने हेतु सामाजिक प्रोत्साहन दिये जाने का भी निर्णय हुआ।आडंबर युक्त सामाजिक कार्यक्रम आयोजन से बचते हुए फिजूल खर्ची पर रोक लगाने की अपील की गई।
   ” एक महत्वपूर्ण चर्चा समाज में बुराई के रुप में फैल रहे मद्यपान एवं मांशाहार युक्त  सामाजिक  सहभोज को रोकने पर हुआ जिसपर व्यापक विचारोपरांत सामाजिक सहभोज में मांशाहार पूर्णत: निषिद्ध करने का निर्णय लिया गया।”अगर कोई भी मांसाहार भोजन आयोजित करे तो उस कार्यक्रम का सामूहिक बहिष्कार करने एवं आर्थिक दंड करने का प्रस्ताव पास हुआ।
 सभा में विशेष रुप से उपस्थित संसदीय सचिव श्रीमती रुपकुमारी चौधरी ने उपस्थित नारी शक्ति एवं युवाओं सहित समाज जनों को सामाजिक नियमावली के पालन के साथ सामाजिक समरसता स्थापित करने पर बल दिया।
अध्यक्षीय उद्बोधन में केन्द्रीय अध्यक्ष प्रेमशंकर पटेल ने  सामाजिक बुराइयों को दूर करने हेतु समाज जनों के विचारों का स्वागत करते हुए कहा कि सामाजिक संगठन के महासभा में नारी शक्ति एवं युवाओं की भारी संख्या में न केवल उपस्थिति बल्कि सक्रीय सहभागिता इस बात का परिचायक है कि भावी पीढ़ी एक सशक्त एवं कुरीतियों से मुक्त समाज के निर्माण की दिशा में अग्रसर है।आज के निर्णय अनुसार  संशोधित नियमावली व आचार संहिता का नया प्रकाशन करके ग्राम प्रमुखों तक परिपालन हेतु उपलब्ध कराने की भी बात कही।सभा को संरक्षक रामानुज पटेल , पूर्व विधायक त्रिलोचन पटेल ,बालकराम पटेल,कलपराम पटेल,जिला पंचायत सदस्य श्रीमती उषा पटेल , लक्ष्मण पटेल, महिला संयोजिका श्रीमती गेसमोती पटेल,युवा संयोजक अविनाश पटेल ने भी संबोधित किया।
  संपन्न महासभा में प्रदेश के कोने कोने से तथा समीप के उड़ीसा प्रांत से  समाज के हजारों की संख्या में वरिष्ठ जन ,महिला एवं युवा प्रतिनिधियों ने महासभा में अपनी सहभागिता दी।महासभा में प्रमुख रुप से ,प्रवक्ता नरेश्वर पटेल ,संगठन सचिव सेतराम पटेल युवा सह संयोजक द्वारिका पटेल ,अंचल प्रभारी  गजेन्द्र चौधरी ,खेमराज पटेल,दिनेश चौधरी,रामकुमार नायक लक्ष्मण पटेल, डिंगरो पटेल,बी आर पटेल, नेहरू पटेल,सहित क्षेत्रीय अध्यक्ष गण भी मंचस्थ थे। संचालन नारायण चौधरी एवं डॉ.योगेश पटेल ने किया। महासभा के आयोजन को सफल बनाने में बोधराम पटेल,लखपति पटेल,खगेश्वर पटेल ,मनोहर पटेल ,चंपक पटेल,मिनीकेतन चौधरी,चंद्रहास पटेल, विमला पटेल ,गायत्री पटेल सहित क्षेत्रीय समिति के समस्त पदाधिकारियों ,महिला मंच एवं युवा मंच का सराहनीय योगदान रहा।

Leave a Reply