बंदूक की भाषा समझने वालों को उसी की भाषा में जवाब देना चाहिए : योगी

गोरखपुर : यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि बंदूक की भाषा समझने वालों को उसी भाषा में जवाब दिया जाना चाहिए। योगी ने कहा, ‘सुरक्षा की गारंटी हर व्यक्ति को मिलनी चाहिए लेकिन जो लोग समाज का माहौल बिगाड़ना चाहते हैं, जिन लोगों को बंदूक की नोंक पर विश्वास है, उन्हें बंदूक की भाषा में ही जवाब भी दिया जाना चाहिए। यह मैं प्रशासन से कहूंगा कि इसमें घबराने की आवश्यकता नहीं है।’

गुरुवार को गोरखपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में योगी ने अप्रत्यक्ष रूप से विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, ‘लाल टोपी पहनकर किसी को भी अराजकता फैलाने की छूट नहीं दी जा सकती है। संसदीय मर्यादा तार-तार करने की छूट नहीं दी जा सकती। मैं सलाह दूंगा कि समय रहते सुधरें नहीं तो प्रदेश की जनता उन्हें सुधार ही रही है।’

बता दें कि गुरुवार को बजट सत्र में विपक्ष के हंगामे को लेकर योगी ने राजधानी में पत्रकारों से बात करते कड़ी नाराजगी जाहिर की। योगी ने संवाददाताओं से कहा, ‘विपक्षी नेताओं का अशिष्ट, असंसदीय, अभद्र और अशोभनीय आचरण निन्दनीय है। इस तरह के आचरण से संसदीय परंपरा टूटती है।’

मुख्यमंत्री ने गोरखपुर औद्योगिक विकास प्राधिकरण के भवन और कलेसर से नौसाद चौराहा तक एलईडी रोड लाइट का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने जिले में सहजनवा क्षेत्र के हरदी गांव में पॉलिटेक्निक की आधारशिला भी रखी। इस मौके पर योगी ने कहा, ‘विकास ही संपन्नता का एकमात्र रास्ता है। पॉलिटेक्निक संस्थान के शुरू होने से होने के बाद युवाओं को अपने क्षेत्र में तकनीकी शिक्षा का अवसर मिलेगा। यदि हम गांवों से पलायन रोकना चाहते हैं तो हमें गांवों का विकास करना होगा।’

उन्होंने कहा कि पूर्व की प्रदेश सरकारें तुष्टिकरण और वोटबैंक की राजनीति करती थीं। एसपी सरकार की बूचड़खानों में ज्यादा रूचि थी और हम विकास में रूचि रखते हैं। योगी ने कहा कि जिस जगह एसपी सरकार बूचड़खाना खोलना चाहती थी, हम वहां विकास के द्वार खोलेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *