वीरांगना रानी अवंतीबाई महिला सशक्तिकरण की प्रतीक : शिवराज

भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि वीरांगना रानी अवंतीबाई महिला सशक्तिकरण की प्रतीक हैं। वे मातृभूमि की रक्षा के लिये अंग्रेजों से लड़ते हुए वीर गति को प्राप्त हुईं।

श्री चौहान ने कहा कि वीरांगना की समाधि स्थल पर आकर हमें देशभक्ति की प्रेरणा मिलती है।

श्री चौहान आज डिण्डोरी जिले के ग्राम बालपुर में वीरांगना रानी अवंतीबाई के समाधि-स्थल पर श्रद्धा-सुमन अर्पित कर उनके बलिदान दिवस पर आयोजित समारोह-सह-अंत्योदय मेला एवं महिला सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वीरांगना अवंतीबाई के स्मरण स्थलों का सौंदर्यीकरण किया जायेगा। उन्होंने डिण्डोरी जिले के आदिवासियों द्वारा समाधि-स्थल को संरक्षित रखने और उनकी स्मृतियों को बचाने के लिये किये गये प्रयासों की प्रशंसा की।

श्री चौहान ने कहा कि डिण्डोरी जिले में श्रमिक सम्मेलन का आयोजन भी किया जायेगा। श्रमिकों को संचालित योजनाओं का लाभ दिया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भूमिहीन श्रमिकों को भूखण्ड दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि श्रमिकों के कल्याण के लिये विभिन्न योजनाएँ संचालित हैं। उन्हें स्व-रोजगार से जोड़ने का प्रयास भी किया जायेगा।

श्री चौहान ने कहा कि डिण्‍डोरी जिले की महिलाओं ने स्वयं के रोजगार स्थापित कर देश-प्रदेश में अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। जिले की महिलाएँ कोदो-कुटकी का जमकर उत्पादन कर मुनाफा कमा रही हैं।

उन्होंने कहा कि उत्पादन बढ़ाने के लिये राज्य सरकार द्वारा हर संभव मदद की जायेगी। उन्होंने कहा कि पौष्टिक आहार कोदो-कुटकी से बच्चे कुपोषण मुक्त होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिले की ग्राम पंचायत सारसडोली और किसलपुरी में हायर सेकेण्ड्री स्कूल खोला जायेगा। मुख्यमंत्री ने समारोह में हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं के हितलाभ-पत्र भी प्रदान किये।

समारोह को खाद्य मंत्री श्री ओमप्रकाश धुर्वे, सांसद श्री फग्गन सिंह कुलस्ते और श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर आयुष राज्य मंत्री श्री जालम सिंह पटेल, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती ज्योति प्रकाश धुर्वे, जनपद पंचायत अध्यक्ष श्रीमती देववती बालरे और नगर पंचायत अध्यक्ष श्री पंकज सिंह तेकाम उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *