भागलपुर हिंसा: केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत ने किया सरेंडर

पटना : भागलपुर हिंसा के मामले में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है। अर्जित शनिवार देर रात करीब 12 बजे अपने दर्जनों समर्थकों के साथ पटना स्टेशन के पास पहुंचे थे।

जहां एडिशनल एसपी राकेश दुबे के नेतृत्व में पहुंची स्पेशल ब्रांच की टीम ने उन्हें हिरासत में ले लिया। इसके बाद पुलिस उन्हें गांधी मैदान थाने ले गई।

इस दौरान अर्जित ने कहा कि उन पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि वह भाग गए थे। उन्होंने कहा कि मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि मैं भागा नहीं था। उन्होंने कहा कि मुझे बेवजह फंसाया जा रहा है।

अर्जित ने कहा कि वह न्यायालय का पूरा सम्मान करते हैं और इसलिए वह यहां आए हैं। अगर मुझे भागना होता तो यहां नहीं आता। मैं एक सामाजिक और राजनैतिक कार्यकर्ता हूं।

उन्होंने कहा कि अगर यहां जय श्री राम, बंदेमातरम और भारत माता की जय बोलना अपराध है तो मैं अपराधी हूं।

बता दें कि इस मामले में केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित की भागलपुर कोर्ट में सुनवाई के बाद एडीजे चतुर्थ कुमुद रंजन सिंह ने अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। उल्लेखनीय है कि वारंट जारी होने के बाद शाश्वत फरार चल रहे थे।

अर्जित शाश्वत चौबे भागलपुर के नाथनगर उपद्रव मामले में नामजद आरोपी हैं। इस मामले में अर्जित शाश्वत चौबे, अभय कुमार घोष, प्रमोद वर्मा पम्मी, देव कुमार पांडेय, सुरेंद्र पाठक, अनुप लाल साह, संजय भट्ट, प्रणव साह उर्फ प्रणव दास के खिलाफ न्यायालय ने गिरफ्तारी वारंट निर्गत किया है।

शाश्वत चौबे समेत 9 आरोपितों ने अग्रिम जमानत के लिए भागलपुर एडीजे कोर्ट में अपील की थी। बचाव और सरकार की ओर से करीब घंटे भर तक जमानत की बिंदु पर बहस के बाद दोपहर कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा। भोजनावकाश के बाद फैसला सुनाते हुए सभी की याचिका खारिज कर दी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *