रूसी राजदूत कारलोव की हत्या, हमलावर ने लगाए धार्मिक नारे

इस्तांबुल। तुर्की में रूस के राजदूत आंद्रे कारलोव की सोमवार रात को अंकारा में एक बंदूकधारी ने गोली मारकर हत्या कर दी। ये हादसा उस वक्त हुआ जब वो जब देश की राजधानी अंकारा में एक कला प्रदर्शनी देखने गए थे, तभी उन पर यह हमला किया गया। आरटी न्यूज के मुताबिक हमलावर मेवलट मर्ट अटलिंटास स्पेशल फोर्स का एक सदस्य था। रुस के विदेश मंत्री सर्गी लावरोव ने कहा कि कारलोव हत्याकांड की जांच रूसी जांचकर्ता करेंगे, जो तुर्की के लिए रवाना हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि मास्को और अंकारा संयुक्त तौर इस मामले में नजर बनाए हुए हैं। लावरोव ने ये भी कहा कि इस हत्याकांड के जरिए रूस और तुर्की की बातचीत को पटरी से उतारने की कोशिश की जा रही है।

अंकारा में रूसी राजदूत की हत्या

रूसी विदेश मंत्रालय ने इसकी पुष्टि की है। इससे पहले गोली लगने से वो गंभीर रूप से घायल हो गए थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। स्पेशल कमांडो ने फौरन हमलावर को भी मार गिराया।

हमलावर गोली चलाते हुए ‘अलेप्पो’ और ‘बदला’ जैसे शब्द बोल रहा था। मौके पर मौजूद अखबार डेली हुर्रियत के संवाददाता हासिम क्लिक ने एएफपी से कहा, ‘राजदूत कारलोव जब भाषण दे रहे थे, तभी सूट पहने एक काफी लंबा व्यक्ति आया। पहले उसने हवा में गोली चलाई बाद में राजदूत को निशाना बनाकर फायरिंग करने लगा। वह ‘अलेप्पो’ और ‘रिवेंज’ जैसे शब्द कह रहा था।’
रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने इसे कभी न भूलने वाली घटना करार दिया था। तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एरदोगन के घटना पर अफसोस जताने और समय बीतने के साथ उन्होंने अपने सुर नरम कर लिए थे। लेकिन अब तुर्की में रूसी राजदूत की हत्या से दोनों देशों के बीच तनाव फिर बढ़ सकता है।

राजदूत की हत्या के बाद रूसी राष्ट्रपति व्लादमीर पुतिन ने विदेश मंत्री सर्गेई लवारेव और सुरक्षा प्रमुख की आपात बैठक बुलाई है। बता दें कि मारे गए राजदूत तुर्की के साथ चल रही उस बातचीत का हिस्सा थे जिसके तहत अलेप्पो में लोगों को बाहर निकाला गया है। इस घटना के बाद तुर्की में रूसी एंबेसी के पास सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

सीरिया मुद्दे पर होनी है रूस ईरान और तुर्की की बैठक

बता दें कि मंगलवार को सीरिया के मुद्दे पर रूस के नेतृत्व में ईरान और तुर्की के साथ मॉस्को में त्रिपक्षीय बैठक होनी है। इसमें तीनों देश के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव, मोहम्मद जावेद जरीफ और मेवलुत कवुसोलु को भाग लेना है। हालांकि रूस ने कहा है कि इस हमले का बैठक पर कोई असर नहीं होगा। मीटिंग तय कार्यक्रम के मुताबिक होगी।

रूस और तुर्की में पहले से तनाव

बता दें कि रूस सीरिया में चल रहे युद्ध में राष्ट्रपति बशर अल असद की सरकार का समर्थन कर रहा है इसे लेकर तुर्की और रूस के बीच तनाव बना हुआ है। सीरियाई सरकार का समर्थन करने के लिए रूस के खिलाफ इस्तांबुल में रूस के वाणिज्य दूतावास के बाहर प्रदर्शन भी हुए हैं। लेकिन तुर्की और रूस की सरकारें अलेप्पो में युद्ध विराम पर मिलकर काम कर रही हैं।

Leave a Reply