सुषमा स्वराज अस्पताल से घर पहुंचीं, 3 महीने मुलाकातियों से दूर रहेंगी

Last Updated on

नई दिल्ली. केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सोमवार शाम को अस्पताल से घर वापस आगयी हैं. बीते 10 दिसंबर को सुषमा स्वराज का किडनी ट्रांसप्लांट किया गया था. डॉक्टरों ने उन्हें मुलाकातियों से दूर रहने की सलाह दी है. सुष्मा स्वराज ने इस बारे में ट्विट भी किया है. उन्होंने लिखा है कि वो घर आगयी हैं लेकिन अभी अपने शुभचिंतकों को मुलाकातियों को समय नहीं दे पायेंगी.  चिकित्सकों ने उन्हें अस्पताल से छुट्टी देने का फैसला तब किया जब उनकी किडनी के काम करने समेत उनकी सारी ताजा जैव रासायनिक जांच सामान्य पाई गई. सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर डा मुकुट मिंज को आभार जताया.

एम्स ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘सुषमा स्वराज को शाम सात बजे अस्पताल से छुट्टी दी गई जब 10 दिसंबर को किडनी प्रतिरोपण के लिए ऑपरेशन के बाद उनके स्वास्थ्य में सुधार हुआ.’ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने अस्पताल से छुट्टी दिए जाने से पहले स्वराज से मुलाकात की और उनके स्वास्थ्य में सुधार पर संतोष जताया.

एम्स के निदेशक एम सी मिश्रा ने उनके स्वास्थ्य में सुधार पर संतोष जताते हुए कहा कि चिकित्सकों का एक दल अगले कुछ हफ्तों तक स्वराज के स्वास्थ्य में प्रगति की समीक्षा जारी रखेगा. उन्होंने स्वराज के स्वास्थ्य में सुधार पर खुशी जताई.उन्होंने बताया कि 64 वर्षीय स्वराज को अगले तीन महीने तक अपने घर और कार्यालय में मिलने आने वाले लोगों की संख्या सीमित रखने को कहा गया है ताकि संक्रमण के खतरों को कम किया जा सके.

एम्स ने कहा, ‘‘विशेषज्ञों का एक दल जिसमें ट्रांसप्लांट सर्जन, नेफ्रोलॉजिस्ट, पल्मोनोलॉजिस्ट, इंडोक्राइनोलॉजिस्ट शामिल थे, उन्होंने उनके स्वास्थ्य  स्थिति की आज समीक्षा की ताकि अस्पताल से छुट्टी दिए जाने पर उन्हें दी जाने वाली दवाओं के बारे में सलाह दी जा सके.’ एम्स ने कहा कि उनके पोषाहार और आहार, फिजियोथेरेपी और तरल पदार्थ लेने के संबंध में विस्तृत सलाह दी गई है.नड्डा ने स्वराज का इलाज करने वाले चिकित्सकों और नर्सों के दल से भी मुलाकात की और उन्हें प्रदान की गई देखभाल के लिए बधाई दी.

चूंकि उनके परिवार में अंगदान करने वाला कोई उपयुक्त व्यक्ति उपलब्ध नहीं था, इसलिए प्रतिरोपण एक असंबंधित अंगदान करने वाले व्यक्ति की किडनी लेकर किया गया और एम्स की अथॉराइजेशन कमेटी ने इसके लिए हरी झंडी दी.स्वराज पिछले कुछ समय से मधुमेह से पीडित हैं और यह पाया गया कि उनकी किडनी ने काम करना बंद कर दिया है. उन्हें डायलिसिस पर रखा गया था.

गत 16 नवंबर को स्वराज ने ट्वीट किया था कि किडनी के काम करना बंद करने की वजह से वह एम्स में भर्ती हैं. पिछले कुछ महीने से उनके अस्पताल में भर्ती होने और बाहर निकलने का सिलसिला जारी था. उन्हें इस बार सात नवंबर को एम्स में भर्ती कराया गया था.स्वराज के सोशल मीडिया पर अपने स्वास्थ्य की स्थिति सार्वजनिक करने के बाद कई लोगों ने अपनी किडनी उन्हें दान करने की पेशकश की थी.

Leave a Reply