गांवों को स्मार्ट बना कर रोकेंगे पलायन : नीतीश

Last Updated on

सहरसा. निश्चय यात्रा के चौथे चरण के तीसरे व अंतिम पड़ाव में सहरसा पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार स्मार्ट सिटी बनाये या न बनाये, लेकिन हम गांवों को स्मार्ट जरूर बना देंगे. गांवों को स्मार्ट बना कर राज्य से पलायन को रोका जायेगा. सीएम ने कहा कि केंद्र सरकार कहती है कि 500 करोड़ में स्मार्ट सिटी बनायेगी, कैसे बनायेगी पता नहीं, पर हमने तो सरकार बनने के साथ ही जो सकंल्प लिया था, उस पर पूरी तैयारी के साथ काम शुरू कर दिया है.

निश्चय यात्रा के तहत हम इन्हीं कार्यों व योजनाओं की प्रगति को देख रहे हैं. सीएम ने कहा कि हमने तय किया है कि चार साल में बिहार के हर घर में नल का जल पहुंचा देंगे. गांव की हर गली पक्की व नाला का निर्माण होगा. 2017 के दिसंबर माह तक बिहार के हर गांव तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य है और यही नहीं गांव के साथ हर व्यक्ति के घर तक बिजली कनेक्शन पहुंच जाये, ऐसी हमारी कोशिश है.

अपनी योजनाएं व उपलब्धियां गिनाते हुए सीएम ने कहा कि हमारे शराबबंदी का फैसला कितना सही था यह गुरुवार को आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला बता रहा है. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से बिहार की नैतिक जीत हुई है.

अगर पूरा देश शराबबंदी को अपना लें तो जिस तरह चीन अफीम को छोड़ कर आगे बढ़ गया, एसी तरह भारत भी आगे बढ़ेगा. शनिवार को प्रभात खबर द्वारा चर्चा में आये गांव आरण में मोर देखने के बाद जिला मुख्यालय स्थित स्टेडियम में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि चुनाव पूर्व जब महागंठबंधन बना तो हमने साझा कार्यक्रम तय किया. सरकार बनी तो इसी के तहत सोच-विचार कर सात निश्चय कार्यक्रम को लागू किया गया.

सात निश्चय के तहत आने वाली योजनाओं की उपलब्धि गिनाते सीएम ने कहा कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में बिहार देश के सामने उदाहरण पेश कर रहा है. पहले पंचायती राज व स्थानीय नगर निकाय में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया. इसके बाद बिहार की हर नौकरी में महिलाओं को 35 प्रतिशत की हिस्सेदारी दी.

ऐसा करने वाला बिहार देश का पहला राज्य है. युवाओं को क्षमतावान व प्रतिभाशील बताते हुए सीएम ने कहा कि देश के अन्य राज्यों की तुलना में बिहार में ही युवाओं की संख्या सर्वाधिक है जो हमारी पूंजी हैं. अगर इनका विकास हो गया तो बिहार देश में सबसे आगे होगा.

इसलिए इनके लिए एक निश्चय में पांच योजनाएं हैं जिनमें 12वीं से ज्यादा पढ़ाई करने के इच्छुक छात्रों के लिए चार लाख रुपये का स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड, नौकरी की तलाश करने वालों को दो साल तक स्वयं सहायता भत्ता के तहत एक हजार रुपये प्रतिमाह, कुशल युवा कार्यक्रम के तहत कंप्यूटर व अंगरेजी की शिक्षा देने की व्यवस्था की गयी है. नीतीश ने कहा कि उद्यमशील युवाओं के लिए 500 करोड़ रुपये का वेंचर कैपिटल फंड का गठन किया गया है.

Leave a Reply