लोकतंत्र में तांत्रिकों अंधविश्वास फैलाने वालों के लिये कोई स्थान नहीं:ठाकुर

नक्सलियों के खिलाफ तंत्र-मंत्र क्यों नहीं करते रामसेवक पैकरा -कांग्रेस
रायपुर/ गृहमंत्री रामसेवक पैकरा के द्वारा कर्म के साथ तंत्र-मंत्र भी आवश्यक वाले बयान पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि गृह मंत्री रामसेवक पैकरा को तंत्र मंत्र पर इतना ही भरोसा है तो वे इसका इस्तेमाल नक्सलियों को पकड़ने के लिए क्यों नहीं करते, ताकि बीहड़ जंगल में हमारे जवानों की शहादत रूक सके। भाजपा सरकार की खुफिया तंत्र के नाकामी से सुरक्षा बलों के जवान नक्सलियों का शिकार तो नहीं होंगे। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर हमारे पारिवारिक सामाजिक जीवन में देवी शक्तियों पर सभी श्रद्धा रखते है। लेकिन तांत्रिकों व अंधविश्वास फैलाने वालों के लिए समाज में कोई जगह नहीं है। राज्य के गृह मंत्री रामसेवक पैकरा के कर्म के साथ तंत्र मंत्र जरूरी वाले बयान से राज्य में अंधविश्वास को बढ़ावा मिलेगा। इसका दुष्प्रभाव सबसे ज्यादा युवाओं महिलाओं पर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पूर्व में भी तांत्रिक क्रियाओं को सफल बताने तांत्रिक क्रियाओं से सफलता पाने के नाम से कई प्रकार की अप्रिय घटनाएं राज्य हो चुकी है। तांत्रिकों के कारण मासूमों की बलि-नरबलि महिलाओं पर अत्याचार जैसी घटनायें हुई है। अंधविश्वास को खत्म करने लगातार वैज्ञानिक दृष्टिकोण से लोगों को अवगत कराया जा रहा है। ऐसे समय में भारतीय जनता पार्टी एवं उनके नेताओं के द्वारा विधानसभा में तांत्रिक को बुलाकर कर तांत्रिक क्रियाओं के माध्यम से विधानसभा को बंधन कराने का कृत्य करना और तांत्रिक क्रियाओं को उचित ठहराना सही नहीं है। उन्होंने कहा कि गृहमंत्री रामसेवक पैकरा भारतीय जनता पार्टी को अगर तांत्रिक क्रियाओं पर अटूट विश्वास है तो वह इस प्रकार की क्रियाओं का उपयोग राज्य के हताश परेशान किसान, मजदूर, युवा, महिलाओं को कष्ट मुक्त कराने, राज्य से गायब 27000 से अधिक महिलाओं को ढूंढने, नक्सल समस्या को जड़ से समाप्त करने, अशिक्षा, बेरोजगारी, कुशासन, भ्रष्टाचार, कमीशनखोरी को समाप्त करने क्यों नहीं करती? सरकार की विफलताओं से भाजपा जनता का ध्यान बांटने के लिए इस प्रकार के हथकंडे अपना रही है जो लोकतंत्र के मंदिर में स्वीकार्य नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *