उपेंद्र कुशवाहा ने खीर वाले बयान पर दी सफाई

कुशवाहा

पटना : रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने  खीर वाले बयान पर गहमागहमी के बाद सफाई दी  है.

उन्होंने पटना में मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्होंने न तो आरजेडी (राष्ट्रीय जनता दल) से दूध मांगा है और न ही बीजेपी से चीनी मांगी है। उन्होंने कहा कि वे समाज तोड़ने वालों में से नहीं हैं. समाज को जोड़ने को लेकर बयान दिया था.

शनिवार को पटना में एक कार्यक्रम के दौरान उनके दिए बयान पर बिहार की सियासत गर्म हो गई थी। माना जा रहा था कि यह बयान आरजेडी और आरएलएसपी के बीच नजदीकी का संकेत है।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में शिक्षा राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने सोमवार को कहा, ‘न मैंने आरजेडी से दूध मांगी और न ही बीजेपी से चीनी मांगी।

हमने सभी समाज से समर्थन मांगा है। मैं तो सामाजिक एकता की बात कर रहा था। कृपया किसी जाति या समुदाय को किसी राजनीतिक पार्टी से जोड़ने की कोशिश मत करें।’

बिहार में आरजेडी इ  कोर वोटर यादवों की आबादी करीब 15 फीसदी है। वहीं आरजेडी को मुसलमानों का भी भरपूर समर्थन मिलता है।

बिहार में मुस्लिमों की आबादी भी 15 फीसदी से ज्यादा है। कुशवाहा कोइरी समाज से आते हैं और बिहार की आबादी में कोइरी आबादी 3 फीसदी है।

कुशवाहा बिहार के सीएम नीतीश कुमार के विरोधी भी माने जाते हैं। ऐसे में उनके खीर वाले बयान को हाथोंहाथ लिया गया। इसे एनडीए कुनबे में फूट के रूप में देखा जा रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *