लोग स्वयं देख रहे वर्ष 2003 से वर्ष 2018 के बीच छत्तीसगढ़ में आए बदलाव को : डॉ. रमन सिंह

रायपुर, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज प्रदेश व्यापी अटल विकास यात्रा के अपने तूफानी दौरा कार्यक्रम के तहत राज्य के आदिवासी बहुल बस्तर संभाग के तहसील मुख्यालय भैरमगढ़ (जिला-बीजापुर) में एक विशाल आमसभा को सम्बोधित किया। उन्होंने इस अवसर पर वहां लगभग 191 करोड़ रूपए के 36 विभिन्न निर्माण कार्याें का लोकार्पण, भूमिपूजन और शिलान्यास किया। इसके साथ ही उन्होंने केन्द्र और राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को सामग्री और अनुदान राशि का भी वितरण किया। लोगों ने विशाल पुष्पमाला पहनाकर उनका अभिनंदन किया।
जनता को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्माता और देश के पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित यह विकास यात्रा प्रदेश के विकास और विश्वास का प्रतीक है। डॉ. सिंह ने कहा – विकास की दृष्टि से वर्ष 2003 से आज वर्ष 2018 के बीच छत्तीसगढ़ में जो बदलाव आया है, उसे लोग स्वयं देख रहे हैं। हर कोई देख सकता है कि वर्ष 2003 में छत्तीसगढ़ कैसा था और आज 2018 में आकर कैसा है? उन्होंने कहा – बीजापुर सहित बस्तर संभाग के सभी जिलों में विगत 15 वर्षाें में आम जनता की बेहतरी के लिए हर क्षेत्र में विकास के अभूतपूर्व कार्य हुए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की योजनाओं से गांव, गरीब और किसानों तथा समाज के सभी वर्गों के जीवन में परिवर्तन आया है। मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना के तहत मात्र एक रूपए किलो में चावल, निःशुल्क नमक और आदिवासी क्षेत्रों में पांच रूपए किलो में चना वितरण किया जा रहा है। इससे गांवों में भूख और पलायन की समस्या लगभग खत्म हो गई है। नई पीढ़ी की शिक्षा के लिए बेहतर व्यवस्था की गई है। किसानों को खेती के लिए ब्याज मुक्त ऋण मिल रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों को पक्के मकान और उज्ज्वला योजना के तहत महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिए जा रहे हैं।
डॉ. सिंह ने भैरमगढ़ नगर पंचायत के विभिन्न वार्डाें में सीमेंट कांक्रीट सड़क और नाली निर्माण के लिए 50 लाख रूपए मंजूर करने और ग्राम भट्टीगुड़ा में स्टापडेम तथा सिंचाई नहर निर्माण की स्वीकृति देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री के हाथों आमसभा में जिन निर्माण कार्यों का लोकार्पण हुआ, उनमें जिला मुख्यालय बीजापुर में तीन करोड़ 40 लाख रूपए की लागत से युवाओं के कौशल प्रशिक्षण के लिए निर्मित लाइवलीहुड कॉलेज भवन भी शामिल हैं। डॉ. सिंह ने आमसभा में चिंतावागु नदी पर 25 करोड़ 59 लाख रूपए की लागत से निर्मित उच्च स्तरीय पुल का भी लोकार्पण किया। जिसके बन जाने से अब छत्तीसगढ़ के बीजापुर से पड़ोसी राज्य तेलांगना और महाराष्ट्र के बीच यातायात सुगम हो गया है। डॉ. सिंह ने आमसभा में शासकीय जिला ग्रंथालय बीजापुर के लिए 32 लाख रूपए की लागत से निर्मित भवन, ग्राम केशकुतुल में 75 लाख रूपए की लागत से निर्मित 50 सीटों वाले आश्रम शाला भवन और बीजापुर-जगरगुण्डा मार्ग पर 80 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित दो बड़े पुलों का भी लोकार्पण किया।
डॉ. सिंह के हाथों आमसभा में बीजापुर के जवाहर नवोदय विद्यालय भवन और बीजापुर बायपास रोड का भूमिपूजन और शिलान्यास हुआ। नवोदय विद्यालय भवन का निर्माण 25 करोड़ रूपए की लागत से और बासपास रोड का निर्माण 47 करोड़ रूपए की लागत से किया जाएगा। आमसभा में प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों के 56 हजार 973 तेन्दूपत्ता संग्रहाकों को 48 करोड़ रूपए के प्रोत्साहन पारिश्रमिक (बोनस) का भी वितरण किया गया। मुख्यमंत्री ने इनमें से प्रतीक स्वरूप कई संग्राहकों को बोनस राशि के चेक भेंट किए। उन्होंने बीजापुर जिले के मद्देड़ और भोपालपटनम के पुलिस थानों को आई.एस.ओ. 9001 थाना घोषित होने पर प्रशस्ति पत्र भेंट कर सम्मानित किया। आमसभा में प्रदेश के वन, विधि और विधायी कार्य मंत्री श्री महेश गागड़ा और स्कूल शिक्षा और आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप सहित अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि, विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी और हजारों की संख्या में किसान, मजदूर और आम नागरिक उपस्थित थे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *