डीआरडीओ साइंटिस्ट ने वेपन और मिसाइल के डिजाईन पकिस्तान भेजे

डीआरडीओ

लखनऊ :डीआरडीओ के इंजिनियर निशांत अग्रवाल को यूपी एटीएस ने गिरफ्तार किया है। उसके पास से ब्रह्मोस मिसाइल और उसमें इस्तेमाल किए जाने वाले वेपन के डिजाइन बरामद हुए हैं।

आरोप है कि उसने ब्रह्मोस मिसाइल प्रॉजेक्ट से जुड़ी कई जानकारियां पाकिस्तान और अमेरिका की खुफिया एजेंसियों से साझा की हैं। इस जानकारी के सामने आने के बाद सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों के होश उड़े हुए हैं।

एजेंसियों को डर है कि अगर ये डिजाइन पाकिस्तान को भेज गए हैं तो यह देश की सुरक्षा को लेकर बड़ा खतरा है।

सूत्रों के मुताबिक, यह निशांत अग्रवाल के निजी कंप्यूटर से बड़ी संख्या में मिसाइल और वेपन के डिजाइन मिले हैं।

नागपुर यूनिट के लोगों को जब यह पता चला तो उन्होंने यूपी और महाराष्ट्र एटीएस के अधिकारियों को बताया कि निशांत को इन डिजाइन को घर के पर्सनल कंप्यूटर में रखना तो बहुत दूर ऑफिस में भी रखने का अधिकार नहीं है।

इसके बावजूद ये डिजाइन उसके पास होना खतरे की निशानी है। अब यूपी एटीएस इस बात की पड़ताल कर रही है कि निशांत ने ये डिजाइन पाकिस्तान भेजे हैं या नहीं।

क्या जिम्मेदारी थी निशांत के पास
31 जुलाई 2013 से ब्रह्मोस मिसाइल अनुसंधान केंद्र के तकनीकी डिविजन में काम कर रहा था।
वह हाइड्रोलिक्स न्यूमैटिक्स एंड वॉरहेड इंट्रीगेशन (प्रॉडक्शन) का प्रमुख है। उसके नेतृत्व में 40 लोगों की टीम काम कर रही थी।
उसके जिम्मे ब्रह्मोस नागपुर के अलावा पिलानी प्रॉजेक्ट का सुपरविजन भी था। ब्रह्मोस भारत-रूस का जॉइंट वेंचर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *