सपा-बसपा गठबंधन के बाद गरमा सियासी माहौल

लखनऊ : लोकसभा चुनावो को लेकर उत्तरप्रदेश की राजनीती गरमा गई है, ऐसे में इस गर्मी को अब थोड़ी रहत मिलती नज़र आ रही है जब सपा और बसपा गठबंधन को तैयार हो गए है| दोनों ही पार्टियों के नेताओं में खुशी का माहौल है । दोनों ही दलों में टिकट के दावेदारों की संख्या बढ़ गई है। भाजपा के अनेक नेता भी भगवा चोला उतारने को तैयार हैं। बसपा सुप्रीमो के जन्मदिन से ही दल बदलने का सिलसिला भी प्रारम्भ हो जाएगा।

गठबंधन घोषित होने के बाद सपा और बसपा के खेमों में जश्न का माहौल है। अब अन्य दलों के नेताओं का रुख भी सपा और बसपा की ओर होने लगा है। पार्टी नेताओं की मानें तो अब दोनों ही दलों में टिकट के दावेदारों की लाइन लंबी हो गई है।

बसपा के संपर्क में भाजपा के कुछ जनप्रतिनिधि भी हैं, जो भगवा चोला उतारकर बसपा में आने को तैयार हैं। माना जा रहा है कि बसपा सुप्रीमो मायावती के जन्मदिन से ही दल-बदलने का सिलसिला प्रारम्भ हो जाएगा। ये ही हाल सपा में भी है। सपा में भी अब टिकट के दावेदारों की संख्या बढ़ चुकी है। वही अन्य दलों के नेताओं में बेचैनी का माहौल है।

इधर बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि सपा और बसपा का गठबंधन का स्थायी है. 2019 में नहीं हम 2022 का आम विधान चुनाव भी साथ लड़ेंगे. इसके बाद भी हम साथ में चुनाव लड़ेंगे.

वही सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि पूरे देश में अराजकता का माहौल है. प्रदेश में भूखमरी और गरीबी चरम पर है. बीजेपी धर्म के नाम पर राजनीति कर रही है. बीजेपी के राज में हर वर्म परेशान है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *