नई दिल्ली । राजधानी में एक ओर दिल्ली सरकार स्कूलों में शिक्षा का स्तर सुधारने व बच्चों को बेहतर मिड डे मील का दावा कर रही है वहीं दूसरी ओर हालात बदतर होते जा रहे हैं। दक्षिण दिल्ली के देवली में एक सरकारी स्कूल में मिड डे मील में दो चूहे मरे मिले। खराब खाना खाने से कई छात्र बीमार पड़ गए।

इन छात्रों को मदन मोहन मालवीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी और अस्पताल में बीमार छात्रों से मिलने गए। उपमुख्यमंत्री ने कहा है कि मिड डे मील सप्लायर कंपनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे ब्लैक लिस्टेड किया जाएगा।

देवली के सीनियर सेकेंडरी स्कूल में छात्रों को परोसे जाने वाले मिड डे मील में दो मरे हुए चूहे पाए गए थे। जिससे 9 बच्चे अस्पताल ले जाए गए हैं।

उपमुख्यमंत्री ने बच्चों व डॉक्टर से बात की है है ट्वीट कर बताया है कि सभी बच्चे ठीक हैं। साथ ही उन्होंने कहा है कि मिड डे मील सप्लायर केखिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा रहे हैं। साथ ही उसे ब्लैक लिस्ट भी करेंगे। उन्होंने कहा कि बच्चों के मामले में इतनी बड़ी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सुबह से किचन में हमारे आफिसर्स की देखरेख में खाना बनेगा।

वहीं, दूसरी ओर शिक्षकों ने इस घटना का ठीकरा सरकार पर फोड़ा है। सरकारी स्कूल शिक्षक संघ के सचिव अजयवीर सिंह यादव ने कहा कि यह घटना सरकारी तंत्र की नाकामी को दर्शाता है। दरअसल मौजूदा सरकार ईवेंट मेनिजमेंट के फार्मूले पर काम करने में यकीन करती है। धरातल पर कोई काम नहीं हो रहा है। जहां काम नहीं होना चाहिए वहां काम किया जा रहा है।