बिजली कटौती पर विभाग पर उंगली उठाना इंजीनियर्स की निष्ठा पर प्रश्नचिन्ह

रायपुर । छत्तीसगढ़ प्रदेश इन दिनों भीषण गर्मी की मार झेल रहा है वही बिजली कौटौति की समस्या से जनता बेहाल है। एकओर प्रदेश जहां सरप्लस बिजली उत्पादन वाला क्षेत्र है वही बिजली की कटौती समझ से पर है। बिजली की इस समस्या को लेकर विपक्ष जहां सरकार को दोषी ठैरा रही है वही आल इंडिया पावर इंजीनियर फेडरेशन ने आज कहा की प्रदेश में बिजली कटौती जैसी कोई स्तिथि नही है, बल्कि मेंटेनेंस के लिए बिजली बंद की जा रही है।

फेडरेशन के अध्यक्ष पी एन सिंह ने बताया की विधानसभा और फिर लोकसभा चुनाव की आचार संहित के कारण चुनाव आयोग के निर्देशो के चलते बिजली का रखरखाव नही किया जा सका और अब जब प्रदेश गर्मी की चपेट में है तब मेंटेनेंस के लिए ताकि बारिश के मौसम में कोई दिक्कत न हो इसलिए बंद की जा रही है।

सिंह ने बताया की सरकार ने जब से बिजली बिल हाफ किया है तब से लोग अपने घरों में एयर कंडीशनर का अधिक उपयोग करने लगे है और इससे ट्रांसफार्मर पर लोड बढ़ गया है जिससे ट्रांसफार्मर में भी दिक्कत आने लगी है यह भी बिजली बंद होने का एक कारण है।

पी एन सिंह ने बताया की गर्मी के दिनों में लोग टुल्लू पंप से पानी खींचते है, जिस कारण प्रशासनिक आदेश के चलते भी सुबह शाम पानी के समय में बिजली बंद की जा रही है।

उन्होंने साफ तौर पर कहा की प्रदेश में बिजली की कोई कमी नही है केवल लोगो को असुविधा न हो इस लिए बंद की जाती है, ऐसे में विभाग के लोगो पर अविश्वास करना इंजीनियर्स की निष्ठा पर प्रश्न चिन्ह है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *