कोलकाता: टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने रंग में लौटते हुए रविवार को ईडन गार्डन्स पर शानदार शतकीय पारी खेली, जिससे झारखंड ने छत्तीसगढ़ को 78 रन से हराकर विजय हजारे ट्रॉफी वनडे टूर्नामेंट के ग्रुप डी के मैच में अपनी पहली जीत दर्ज की. आईपीएल की फ्रेंचाइजी राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स (आरपीएस) के कप्तान पद से हटाए जाने की खबरों को दरकिनार करते हुए धोनी ने शानदार प्रदर्शन कर अपनी क्षमता साबित की है. गौरतलब है कि जून में चैंपियंस ट्रॉफी होने वाली है और उससे पहले अप्रैल में आईपीएल-10 की शुरुआत हो जाएगी. इस लिहाज से वनडे मैचों में अभ्यास के वास्ते धोनी के लिए विजय हजारे ट्रॉफी का अच्छा मौका है. छत्तीसगढ़ के खिलाफ मुकाबले में धोनी ने झारखंड को शुरुआती झटकों से उबारते हुए 107 गेंदों पर 10 चौकों और छह छक्कों की मदद से 129 रन बनाए. ईडन गार्डन्स पर लिस्ट-ए मैचों में धोनी ने अपना पहला शतक जमाया.

उन्होंने शाहबाज नदीम (90 गेंदों पर 53) के साथ सातवें विकेट के लिए 151 रन की साझेदारी की. झारखंड ने धोनी की पारी से नौ विकेट पर 243 रन बनाए. छत्तीसगढ़ की टीम इसके जवाब में 38.4 ओवर में 165 रन पर आउट हो गई. झारखंड की कप्तानी कर रहे धोनी भारतीय टीम के अपने पुराने साथी मोहम्मद कैफ से टॉस हार गए. झारखंड को पहले बल्लेबाजी के लिए उतरना पड़ा, लेकिन उसकी शुरुआत अच्छी नहीं रही.

धोनी ने ऐसे समय में क्रीज पर कदम रखा, जब 14वें ओवर में स्कोर चार विकेट पर 43 रन था. इसके बाद इशांक जग्गी और कौशल सिंह भी पैवेलियन लौट गए और 20वें ओवर तक स्कोर छह विकेट पर 57 रन हो गए. धोनी ने यहां से नदीम के साथ पारी संवारी ईडन गार्डन्स पर लिस्ट-ए मैचों में अपना पहला शतक जमाया. वह पारी की आखिरी गेंद पर विकेटकीपर को कैच देकर आउट हुए.

छत्तीसगढ़ की तरफ से कांत सिंह ने 33 रन देकर 4 और पंकज राव ने 27 रन देकर 3 विकेट लिए. छत्तीसगढ़ का कोई भी बल्लेबाज पिच पर ज्यादा देर तक टिक नहीं सका. झारखंड के लिए तेज गेंदबाज वरुण आरोन ने 26 रन देकर तीन विकेट लिए, जबकि नदीम ने गेंदबाजी में भी कमाल किया. बाएं हाथ के इस स्पिनर ने 36 रन देकर 3 विकेट हासिल किए.