पटना : बीएसएससी पेपर लीक मामले में एसआइटी गुरुवार की दोपहर आयोग पहुंची. वहां करीब एक घंटे तक रही, लेकिन आयोग के ओएसडी सीके अनिल वहां उपस्थित नहीं हुए. नोटिस के मुताबिक उन्हें अपना पक्ष रखने के लिए दोपहर 12 बजे तक एसआइटी के सामने आना था, पर वह नहीं आये.
एसआइटी के एक बड़े अधिकारी ने यह स्वीकार किया कि सीके अनिल कहां रहते हैं, यह पता नहीं चल पाया है. एसआइटी को सरकारी दस्तावेज से भी पटना में उनके उस आवास का पता नहीं चल पा रहा है, जहां वह नियमित रूप से रहते हैं. आयोग में भी कोई कर्मचारी उनके आवास के बारे में नहीं बता पाया. उनके नाम से सरकारी आवास एलाॅट है कि नहीं, यह जानकारी भी नहीं हो पायी है.  ऐसे में उनकी तलाश में परेशानी हो रही है. एेसे में बड़ा सवाल यह है कि क्या सीके अनिल एसआइटी की नजर में फरार चल रहे हैं. सूत्रों की मानें, तो राज्य के बाहर भी उनकी तलाश चल रही है. एसआइटी की नजर दिल्ली पर है. उनकी गिरफ्तारी के लिए दबिश तेजी से दी जा रही है.
सीके अनिल की फरारी से गहराता जा रहा शक, धोखाधड़ी का दर्ज हो सकता है केस
पेपर लीक मामले में बीएसएससी के अध्यक्ष सुधीर कुमार को एसआइटी से बचाने के लिए सरकारी दस्तावेज से छेड़छाड़ करने, सुधीर कुमार द्वारा किये गये कृत्य के राजदार बनने, गलत कार्य में सहयोग करने, सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने, एसआइटी की जांच को बाधित करने के आरोप में धोखाधड़ी समेत आइपीसी की अन्य धाराओं में केस दर्ज हो सकता है. सूत्रों की मानें, तो एसआइटी उन पर पूरी तरह से कानूनी शिकंजा कसने में जुट गयी है.
नीति रंजन ने पूछताछ में किये हैं कुछ अहम खुलासे
आयोग के आइटी मैनेजर नीति रंजन से पूछताछ में कुछ अहम सुराग हाथ लगे हैं. बुधवार से दो दिनों के रिमांड पर लिये गये नीति रंजन ने सीके अनिल के बारे में कुछ जानकारी एसआइटी को दी है. उस पर जांच आगे बढ़ रही है. नीति से पूछताछ चल रही है.