लखनऊ : सपा के नवनिर्वाचित विधायकों ने बृहस्पतिवार को विधानसभा में पार्टी के नेता, मुख्य सचेतक व विधानमंडल के अन्य पदाधिकारियों के चयन के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को अधिकृत कर दिया। इनका एलान भाजपा का मुख्यमंत्री तय हो जाने के बाद किया जाएगा।

विधायक दल की बैठक में अखिलेश और शिवपाल यादव करीब चार माह बाद एक साथ मंच पर बैठे लेकिन उनके बीच बातचीत नहीं हुई। सपा अध्यक्ष ने नए विधायकों से कहा कि वे जनहित के मुद्दों को सदन में उठाएं और सरकार की जन विरोधी नीतियों पर कड़ा प्रहार करें।

सपा विधायकों की पहली बैठक पार्टी के प्रदेश कार्यालय में अखिलेश यादव की अध्यक्षता में हुई। सभी की नजरें इस बात पर टिकी थीं कि इसमें मुलायम सिंह यादव और शिवपाल यादव आएंगे या नहीं। मुलायम बुधवार को दिल्ली चले गए थे और बृहस्पतिवार को बैठक शुरू होने तक नहीं आए।

शिवपाल बैठक में शामिल होने के लिए जैसे ही सभागार में दाखिल हुए, आजम खां उन्हें मंच पर ले गए। मंच पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, शिवपाल यादव, आजम खां, राजेन्द्र चौधरी और प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम बैठे।