देवघर : देवघर में झारखंड का पहला और देश का सबसे बड़ा मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल खुलेगा. इसके लिए जसीडीह में जमीन चिन्हित कर लिया गया है. इस ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल की आधारशिला दो अप्रैल को महामहिम राष्ट्रपति रखेंगे. उक्त बातें केंद्रीय कौशल विकास राज्यमंत्री(स्वतंत्र प्रभार) राजीव प्रताप रूडी ने कही. केंद्रीय मंत्री श्री रूडी दो अप्रैल को महामहिम राष्ट्रपति के आगमन की तैयारी का जायजा लेने देवघर पहुंचे. उनके साथ गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे भी थे. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस स्कूल में युवक-युवतियों को लाइट मोटर व्हीकल, हैवी व्हीकल, जेसीबी ड्राइविंग आदि की ट्रेनिंग दी जायेगी. प्रशिक्षण आवासीय व नि:शुल्क होगा. प्रशिक्षण से दक्ष ड्राइवर बनने के बाद देश ही नहीं विदेशों में भी इन युवाओं के लिए ड्राइविंग के क्षेत्र में रोजगार के अवसर मिलेगा.

श्री रूडी ने कहा कि देवघर के युवाओं को अवसर देने के लिए भारत सरकार का कौशल विकास मंत्रालय तीन से पांच अप्रैल को देवघर में मेगा कौशल विकास सह रोजगार मेला लगायेगा. जिसमें देश की नामचीन कंपनियां आयेंगी. इस मेले में न सिर्फ कंपनियों का स्टॉल लगेगा बल्कि रोजगार भी अॉन स्पॉट सलेक्शन करके उपलब्ध करायेगा.

दूसरी बार राष्ट्रपति का आगमन देवघर के लिए सौभाग्य
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देवघर के लिए सौभाग्य की बात कि तीन साल के अंतराल में दूसरी बार महामहिम राष्ट्रपति बाबाधाम आ रहे हैं. वे दो को बाबाधाम आयेंगे, बाबा मंदिर में पूजा करेंगे. उसके बाद वे देवघर कॉलेज मैदान में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क, इएसआइ अस्पताल और मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल की आधारशिला रखेंगे. वहीं देवघर-बासुकिनाथ के बीच 44 किमी लंबी सोलर लाइट प्रोजेक्ट का उदघाटन करेंगे. उन्होंने दोनों बार महामहिम राष्ट्रपति को देवघर लाने का श्रेय गोड्डा सांसद को दिया और उनके कार्य की प्रशंसा की.
इससे पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री रूडी गोड्डा सांसद निशिकांत के साथ जसीडीह स्थित डिगरिया पहाड़ के पास जेठूटांड़ में प्रस्तावित मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल स्थल का निरीक्षण करने गये. कंपनी के अधिकारियों को उन्होंने निर्देश दिया. उसके बाद वे लोग देवघर कॉलेज मैदान में गये, जहां महामहिम के आगमन की तैयारी का जायजा लिया. ज्ञात हो कि केंद्रीय मंत्री श्री रूडी और सांसद विशेष विमान से देवघर आये थे. इस अवसर पर डीसी अरवा राजकमल, एसपी ए विजयालक्ष्मी सहित तमाम प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे.