विधायक दल की नेता पहली महिला से मिलिए

लखनऊ
कांग्रेस द्वारा यूपी विधानसभा में पार्टी विधायक दल की नेता बनाई गईं आराधना मिश्रा ‘मोना’ ऐसी पहली महिला हैं, जिन्हें किसी राजनीतिक दल द्वारा सदन में अपना नेता बनाया गया है। आराधना मिश्रा मोना को हाल ही में यूपी कांग्रेस विधान मंडल दल का नेता बनाया गया है। इसके अलावा पूर्व में इस पद की जिम्मेदारी संभालने वाले अजय कुमार सिंह ‘लल्लू’ को अब पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष पर बैठाया गया है। आराधना मिश्रा से पहले देश के किसी भी राज्य में किसी राजनीतिक दल ने किसी महिला को सदन में अपना नेता नहीं बनाया था।

यूपी की सियासत के प्रमुख चेहरे प्रमोद तिवारी की बेटी आराधना मिश्रा को पार्टी विधानमंडल दल का नेता बनाकर कांग्रेस ने ना सिर्फ महिला वोटरों के बीच संदेश पहुंचाने का प्रयास किया है, बल्कि एक बार फिर अपने पारंपरिक ब्राह्मण वोटर को भी साथ लाने की कोशिश की है। एक जमाने में रीता बहुगुणा जोशी के साथ यूपी के सियासी मैदान में उतरने वाली कांग्रेस ने एक बार फिर एक महिला चेहरे पर दांव लगाया है। प्रदेश संगठन के एक प्रमुख पद की जिम्मेदारी मिलने के बाद आराधना मिश्रा ने भी इस फैसले पर खुशी जाहिर की है।

नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से खास बातचीत में आराधना मिश्रा ने कहा कि प्रियंका गांधी ने उन्हें कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता की जिम्मेदारी दी है। आराधना ने कहा, ‘मेरे लिए यह बेहद खुशी की बात है कि जिस पद पर मेरे पिता प्रमोद तिवारी 22 वर्षों तक काम कर चुके हैं, उसी पद पर मुझे बेहद कम उम्र में ही बैठाया गया है। मैं प्रियंका गांधी जी की आभारी हूं और हम सभी एक साथ साल 2022 के चुनाव के लिए पूरी ऊर्जा के साथ काम कर रहे हैं।’

महिलाओं को प्रियंका की तरजीह
बता दें कि कुछ सालों पहले तक कांग्रेस के यूपी संगठन की कमान ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखने वाली रीता बहुगुणा जोशी के हाथ में थी। हालांकि 2017 के चुनाव के वक्त रीता बहुगुणा के बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही यूपी कांग्रेस के संगठन में कमजोरी देखने को मिली। अब कांग्रेस द्वारा आराधना मिश्रा को विधानमंडल दल का नेता बनाए जाने के फैसले को ब्राह्मण वोटरों को साधने की कोशिश के रूप में भी देखा जा रहा है।

इसके अलावा महिलाओं को आगे लाने की कोशिश में प्रियंका ने हाल ही में अदिति सिंह को पार्टी की ऑल इंडिया महिला कांग्रेस का महासचिव बनाया था और अब आराधना मिश्रा को कांग्रेस विधानमंडल दल का नेता बनाया जाना भी ऐसी ही कोशिश का हिस्सा माना जा रहा है।

ब्राह्मण वोटर को साथ लाने की कोशिश
पार्टी ने जिस तरह प्रदेश कांग्रेस कमिटी के गठन में ब्राह्मण चेहरों पर दांव लगाया है, उससे यह माना जा रहा है कि कांग्रेस एक बार फिर यूपी में उसकी सत्ता में सारथी रहे फॉरवर्ड वोटर को साथ लाने की कोशिश कर रही है। हालांकि ब्राह्मण चेहरों को तरजीह देने की बात पर आराधना मिश्रा ने कहा कि प्रदेश की नई टीम में 20 फीसदी ब्राह्मण नेताओं को स्थान दिया गया है।

इसके अलावा अन्य जातियों और पिछड़े वर्ग के प्रतिनिधित्व को भी खास तरजीह दी गई है। कांग्रेस पार्टी की नई टीम में युवाओं को स्थान देने के मुद्दे पर आराधना ने कहा कि 2022 तक देश सबसे युवा वोटरों वाला देश बनने वाला है, जिसकी एक बड़ी जनसंख्या यूपी में रहने वालों की है। ऐसे में यंग वोटर्स की बात को सरकार तक पहुंचाने के उद्देश्य से ही कांग्रेस ने प्रदेश के युवा नेताओं को टीम में शामिल किया है।

प्रियंका गांधी के साथ रही आराधना की सक्रियता
बता दें कि आराधना मिश्रा मोना शुरुआत से ही यूपी में प्रियंका गांधी के साथ तमाम यात्राओं में शामिल होती दिखी थीं। हाल ही में सोनभद्र और इलाहाबाद जिलों में प्रियंका के दौरे के वक्त भी समन्वय की सारी जिम्मेदारी आराधना को ही दी गई थी। उस वक्त से ही यह माना जा रहा था कि कांग्रेस संगठन में उन्हें कोई बड़ी जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है और पार्टी ने बाद में उन्हें विधान मंडल दल का नेता बनाकर इसकी पुष्टि भी की।

Source: National

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *