J&K में 'खून की नदियां', राहुल पर शाह का तंज

सांगली
महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की वोटिंग (21 अक्टूबर) की तारीख नजदीक आते ही प्रदेश का सियासी पारा चढ़ने लगा है। कांग्रेस-एनसीपी नेताओं के दौरे के बीच बीजेपी के दिग्गजों की भी ताबड़तोड़ रैलियां शुरू हो गई हैं और प्रदेशी के सियासी नक्शे पर इसका असर दिखने लगा है। खासकर आर्टिकल 370 की महाराष्ट्र की सियासत में खूब चर्चा हो रही है। इस कड़ी में महाराष्ट्र के सांगली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय मुद्दों पर कांग्रेस और नैशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी पर तीखे सवाल दागे। शाह ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी के ‘कश्मीर में खून की नदियां बहेंगी’ बयान पर तंज कसते हुए कहा कि राज्य में 5 अगस्त से 5 अक्टूबर तक एक भी गोली नहीं चली। उन्होंने कांग्रेस नेता और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से आर्टिकल 370 पर अपना रुख साफ करने को कहा।

‘एक जवान के बदले 10 दुश्मन मारेंगे’
सांगली में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने कहा कि पीएम ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाकर भारत को अखंड किया है। उन्होंने राहुल और पवार से सवाल किया कि क्या वे इस फैसले का समर्थन करते हैं।

शाह ने कहा, ‘जब मोदी जी जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 खत्म करने का फैसला किया, कांग्रेस और एनसीपी ने इसका कड़ा विरोध किया। जब पूरा देश कश्मीर का एकीकरण चाहता था, उन्होंने (कांग्रेस-एनसीपी) ने विरोध किया। कश्मीर में खून की नदियां बहेंगी लेकिन 5 अगस्त से 5 अक्टूबर हो गई, एक भी गोली नहीं चलानी पड़ी। पीएम मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा सुनिश्चित की है। अगर एक भी भारतीय जवान शहीद हुआ तो 10 दुश्मन मारे जाएंगे।’

बीजेपी-शिवसेना के सामने परिवारवादी पार्टियां
शाह ने कांग्रेस और एनसीपी से सवाल किया कि क्षेत्र के विकास के लिए 15 साल तक सत्ता में रहने वाली उनकी सरकारों ने क्या किया। उन्होंने दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी ने पिछली सरकारों से ज्यादा विकासकार्य 5 साल में कर डाले।

उन्होंने कहा कि आगामी चुनावों में एक ओर बीजेपी और शिवसेना है जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही हैं, तो दूसरी ओर कांग्रेस-एनसीपी की परिवारवादी पार्टियां।

Source: National

Leave a Reply