महाराष्ट्र: मिल मजदूर के बेटे को BJP का टिकट

मुंबई
महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) हर हाल में खुद को सबसे बड़ी पार्टी बनाए रखना चाहती है। इसीलिए वह अपनी सहयोगी पार्टियों के हिस्से वाली सीटों पर उम्मीदवारों को ‘कमल’ निशान पर लड़ा रही है। ऐसी ही एक सीट मालशिरस है, जहां से ने एक मिल मजदूर के बेटे को टिकट दिया है। बता दें कि यह सीट रामदास आठवले की पार्टी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) के हिस्से की थी।

राम सतपुते के नाम पर आरपीआई ने भी कोई आपत्ति नहीं जताई है। यहां तक कि उसने राम सतपुते की उम्मीदवारी को खुशी-खुशी स्वीकार किया है। आपको बता दें कि राम के पिता विट्ठल सतपुते चीनी मिल में मजदूरी करते थे। लंबे समय से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) में सक्रिय रहे सतपुते को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का करीबी माना जाता है।

एबीवीपी और युवा मोर्चा में भी काम कर चुके हैं सतपुते
इंजिनियरिंग की पढ़ाई करने वाले सतपुते अष्टी इलाके के निवासी हैं। पढ़ाई के दिनों से ही राजनीति में सक्रिय सतपुते को एबीवीपी ने प्रदेश मंत्री बनाया था। बाद में भारतीय जनता युवा मोर्चा में उन्होंने प्रदेश उपाध्यक्ष का पद भी संभाला। छात्रहित के लिए एबीवीपी द्वारा किए गए कई प्रदर्शनों और आंदोलनों में भी राम सतपुते ने अहम भूमिका निभाई है। बीजेपी ने उन्हें मालशिरस विधानसभा सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है।

बता दें कि बीजेपी और शिवसेना के बीच 150-124 सीटों के फॉर्म्युले के तहत बंटवारा हुआ है। बाकी कई सीटों पर भी बीजेपी सहयोगी पार्टी के उम्मीदवारों को अपने टिकट पर चुनाव लड़वा रही है। दरअसल, बीजेपी हरसंभव कोशिश कर रही है कि वह अकेले अपने दम पर ही 145 का जादुई आंकड़ा छू ले और भविष्य में सरकार चलाने के लिए उसे शिवसेना का भी मुंह ना देखना पड़े।

Source: National

Leave a Reply