चुहिया vs खच्चर: BJP और कांग्रेस में जंग

चंडीगढ़
हरियाणा के खरखौदा की एक रैली में की अंतरिम अध्यक्ष की तुलना ‘मरी हुई चुहिया’ से करने के बाद सीएम पर कांग्रेस भड़क गई है। सोमवार को कांग्रेस ने ट्वीट कर खट्टर पर हमला बोला। पार्टी ने सीएम के बयान की निंदा करते हुए कहा कि यह ‘निम्नस्तरीय’ है और बीजेपी के ‘महिला विरोधी चरित्र’ को दिखाता है। इसके अलावा कांग्रेस ने खट्टर से अपने बयान पर माफी की मांग की। वहीं, महाराष्ट्र कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष नितिन राउत ने खट्टर को ‘खच्चर’ बता डाला।

कांग्रेस ने माफी मांगने को कहा
कांग्रेस पार्टी की ओर से किए गए ट्वीट में कहा गया, ‘बीजेपी के मुख्यमंत्री (मनोहर लाल खट्टर) द्वारा (सोनिया गांधी पर) दिया गया बयान न केवल अशोभनीय और निम्नस्तरीय है बल्कि यह बीजेपी के महिला विरोधी चरित्र को भी दर्शाता है। हम मुख्यमंत्री मनोहल लाल खट्टर के बयान की निंदा करते हुए उनसे अतिशीघ्र माफी की मांग करते हैं।’ इसके अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरूपम ने भी खट्टर के बयान की निंदा की और उनसे माफी की मांग की।

राउत ने खट्टर को बताया ‘खच्चर’
खट्टर के बयान पर महाराष्ट्र हरियाणा कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राउत ने हमला बोला है। उन्होंने कहा, ‘हरियाणा के सीएम खट्टर नहीं बल्कि ‘खच्चर’ हैं। उनको अगर इस प्रकार का बयान अगर देना है तो उन्हें ऐसा बयान मोदीजी के बारे में देना चाहिए। क्योंकि मोदीजी के बारे में लोग समझ रहे हैं कि मोदीजी बहुत अच्छी आर्थिक उन्नति करेंगे, देश का विकास करेंगे। देश संपन्न होगा, देश में बहुत रोजगार आएगा। उद्योग बढ़ेगा। लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं है। तो खोदा पहाड़ निकला चूहा तो मोदीजी के लिए परफेक्ट बैठता है। तो इसलिए खच्चर साहब को मेरा कहना है कि आप मोदीजी के लिए बोलिए न ये बयान, हम स्वागत करेंगे आपका।’

संजय निरुपम ने भी बोला हमला
निरुपम ने कहा, ‘खट्टर जी हरियाणा के मुख्यमंत्री हैं। एक मुख्यमंत्री इतना नीचे गिर जाए यह देखकर घिन्न आती है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘कांग्रेस अध्यक्ष सोनियाजी के लिए उनकी भाषा सर्वथा आपत्तिजनक है। वह सम्मानित महिला हैं। उनसे वरिष्ठ हैं और मुख्य विपक्षी दल की प्रमुख हैं। अगर वह (खट्टर) संस्कारवान हैं तो उन्हें माफी मांगनी चाहिए।’

जानें खट्टर ने क्या था
खट्टर ने कहा था कि लोकसभा चुनाव हारने के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था और यह कहना शुरू कर दिया था कि पार्टी को गांधी परिवार से बाहर का कोई अध्यक्ष चाहिए। खट्टर ने कहा, ‘हमने सोचा यह तो अच्छी बात है। परिवारवाद से दूर हटना अच्छी बात है लेकिन वे लोग तीन महीने नए अध्यक्ष की तलाश में देश भर में घूमते रहे। तीन महीने बाद कौन अध्यक्ष बना? सोनिया गांधी। खोदा पहाड़ निकली चुहिया, वो भी मरी हुई।’ खट्टर के इस बयान के बाद से कांग्रेस उन पर हमलावर हो गई है।

Source: National

Leave a Reply