क्‍या आप जानते हैं कि बेबी को अमूमन लेफ्ट आर्म पर ही क्‍यों रखते हैं लोग?

Last Updated on

अक्‍सर देखा गया है कि राइट हैंड का यूज करने वाले लोग अधिकतर सारे काम राइट साइड से ही करते हैं। फिर चाहे कार का दरवाजा खोलना हो, कुछ लिखना हो या फिर क्रिकेट खेलना हो। लेकिन राइट हैंडेड लोग भी को अमूमन लेफ्ट आर्म पर ही रखते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि ऐसा क्‍यों हैं? हाल ही में इस विषय पर जर्नल ऑफ न्यूरोसाइंस और बायोबिहेवियरल रिव्यू में एक स्‍टडी प्र‍काशित हुई है।

इसके मुताबिक दुनिया में 70 से 95 फीसदी ऐसे लोग हैं जो राइट हैंडेड यानि कि दाएं हाथ का प्रयोग ज्‍यादा करते हैं। बावजूद इसके वह बेबी को बाईं बांह पर रखते हैं। इसके पीछे यह रीजन भी है जब बेबी को बाईं ओर रखते हैं तो दायां हाथ दूसरे कामों को करने के लिए फ्री हो जाता है। बता दें कि 73 प्रतिशत महिलाएं और 64 प्रतिशत पुरुष अपने बेबी को अपनी बाईं ओर ही रखते हैं। हालांकि सांख्यिकीय रूप से देखा जाए तो महिलाओं की तुलना में बाएं हाथ का प्रयोग करने वाले पुरुषों की संख्‍या अधिक है। तो यह भी एक रीजन है।

स्‍टडी में कुछ और तथ्‍य भी सामने आए इसमें कहा गया है कि फीलिंग्‍स मुख्‍य रूप से दिमाग के दाएं साइड में संसाधित होती हैं। यही वजह है कि लोग अपने बच्चे को अपने बाएं दृश्य क्षेत्र में स्थानांतरित करते हैं, जो मस्तिष्क के दाईं ओर जुड़ा हुआ होता है। इसके अलावा 1996 में की गई एक स्‍टडी में यह बात भी सामने आई कि बाईं तरफ बच्‍चे को लेने से मां और बच्‍चे के बीच कम्‍युनिकेशन आसान हो जाता है। यह बच्‍चे को भाषा सीखने में भी जल्‍दी मदद करता है।

ताकि दिल के करीब रहे नन्‍हीं जान
इसके अलावा कुछ और किए गए अध्‍ययनों में यह भी पाया गया कि लोग अपने बच्‍चे को अपने बेहद करीब रखना चाहते हैं। इसीलिए जब भी उसे अपनी बांह पर लेते हैं तो बाईं ओर लेते हैं क्‍योंकि बाईं ओर हार्ट होता है। इस तरह उन्‍हें लगता है कि उनकी नन्‍हीं जान उनके दिल के करीब है।

Source: Jara Hat Ke

Leave a Reply