ईवीएम विवाद : किरण गोपाल भिंड के नये कलेक्टर होंगे

भोपाल . इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन में गड़बड़ी के आरोप और प्रबंधन में असफल रहने का खामियाजा भिंड कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को उठाना पड़ा. कांग्रेस की शिकायत के बाद चुनाव आयोग की सिफारिश पर सरकार ने भिंड कलेक्टर टी इलैया राजा और पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह कुशवाह को हटा दिया. इनकी जगह वी किरण गोपाल को कलेक्टर और सुशांत सक्सेना को पुलिस अधीक्षक बनाया गया है. राजा अब मंत्रालय में उप सचिव होंगे, वहीं डॉ.पल्लवी जैन गोविल को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संचालक का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है.

भिंड के अटेर विस सीट पर हो रहे उपचुनाव को लेकर नई तकनीकी की ईवीएम के प्रदर्शन के दौरान उठे सवाल को लेकर चुनाव आयोग ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय से रिपोर्ट मांगी थी. रिपोर्ट मिलने के बाद आयोग ने शासन से कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक की पदस्थापना के लिए तीन-तीन नामों का पैनल मांगा था. रविवार को दिनभर दिल्ली से भोपाल तक नई पदस्थापनाओं को लेकर मंथन चलता रहा.

सूत्रों के मुताबिक दोपहर बाद चुनाव आयोग ने वी किरण गोपाल को कलेक्टर और सुशांत सक्सेना को पुलिस अधीक्षक बनाने की सिफारिश की. इसके बाद गृह विभाग ने सक्सेना को भिंड का नया पुलिस अधीक्षक बनाने के आदेश जारी कर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को भेज दिए. वहीं, सामान्य प्रशासन विभाग ने देर शाम वी किरण गोपाल को कलेक्टर बनाने के आदेश जारी कर दिए.

इससे पहले आज भारत निर्वाचन आयोग की टीम जांच के लिए भिंड पहुंची. इसके बाद कलेक्टर इलैया राजा टी और एसपी अनिल सिंह से बंद कमरे में जानकारी ली गई.

वहीं दूसरी ओर अटेर उप चुनाव को लेकर कांग्रेस द्वारा की गई शिकायत के बाद सुरपुरा थाना प्रभारी रामबाबू यादव, पावई थाना प्रभारी सोनपाल तोमर एवं अटेर थाने में पदस्थ सब इंस्पेक्टर राघवेंद्र तोमर को भोपाल पुलिस मुख्यालय भेजा गया है. सुशांत सक्सेना इससे पहले शहडोल एसपी थे.भिंड एसपी रहे अनिल कुमार सक्सेना को पुलिस मुख्यालय भोपाल में सहायक महानिरीक्षक बनाया गया है.

अटेर के अनुविभागीय अधिकारी इंद्रवीर सिंह भदौरिया को उप पुलिस अधीक्षक भोपाल बनाया गया है जबकि जबलपुर नगर पुलिस अधीक्षक मंजीत सिंह चावला अब अटेर के अनुविभागीय अधिकारी होंगे.

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के भिंड जिले में ईवीएम(इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन) में मिली गड़बडी के बाद इन मशीनों की विश्वसनीयता को लेकर देश की राजनीति एक बार फिर गरमा गई है. कांग्रेस ने इसे लोकत्रंत के खिलाफ साजिश बताया है. साथ ही इसकी शिकायत ECIचुनाव आयोग से की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *