मोतिहारी : मोतिहारी चीनी मिल पर वेतन व गन्ना किसानों के बकाया भुगतान की मांग को ले धरना व अनशन पर बैठे आत्मदाह करने वाले दो लोगों में से एक नरेश श्रीवास्तव की मौत हो गयी है. जानकारी के मुताबिक, नरेश ने सुबह चार बजे पटना पीएमसीएच में अंतिम सांस ली.

इससे पूर्व आत्मदाह की कोशिश में दो लोग गंभीर रूप से झुलस गये थे. जिनमें से नरेश को गंभीर स्थिति में पटना रेफर कर दिया गया. घटना सोमवार को चीनी मिल गेट पर घटी, जहां मोतिहारी शुगर मिल लेबर यूनियन के महामंत्री नरेश श्रीवास्तव (पताही मिर्जापुर) और उपसचिव सुरूज बैठा (बड़ा बरियारपुर) के आत्मदाह की खबर पर स्थिति भयावह हो गयी.

उग्र लोगों को रोकने के लिए पुलिस की ओर से आधा दर्जन चक्र  हवाई फायरिंग और करीब एक दर्जन आंसू गैस के गोले छोड़े गये. घटना में पथराव से आठ पुलिस अधिकारी व कर्मी सहित एक दर्जन आंदोलनकारी घायल हो गये. डीएम अनुपम कुमार और एसपी जितेंद्र राणा के पहुंचने के बाद स्थिति पर नियंत्रण पाया गया. इस बीच करीब दो घंटे तक चीनी मिल गेट व बरियारपुर पथ रणक्षेत्र में तब्दील रहा.

बकाया मजदूरी और गन्ना किसानों के बकाया भुगतान व बंद चीनी मिल चालू करने की मांग को लेकर मोतिहारी शुगर मिल लेबर यूनियन की ओर से सात अप्रैल से मिल गेट पर धरना चल रहा था. आर्थिक तंगी झेल रहे लोग निर्णायक लड़ाई की घोषणा कर चुके थे. यूनियन के सदस्यों ने घोषणा की थी कि नौ मार्च की देर रात तक समझौता नहीं हुआ था, उसके बाद हम सब कभी भी आत्मदाह कर सकते हैं. आंदोलनकारियों का कहना है कि प्रशासनिक स्तर पर कोई सार्थक प्रयास नहीं किया गया, जिसका नतीजा हुआ कि मिल से जुड़े दो लोगों ने आत्मदाह करने की कोशिश की, जो जीवन और मौत के बीच जूझ रहे हैं.