जगदलपुर: लोक सुराज अभियान के तहत करन्दोला में आयोजित समाधान शिविर में स्कूल शिक्षा एवं आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री केदार कश्यप ने 1 करोड़ 21 लाख रुपए के विकास कार्यों की सौगात दी। मंत्री ने यहां करन्दोला और भानपुरी में बनने वाले हाट-बाजार का भूमिपूजन किया। मंत्री श्री कश्यप ने इस अवसर पर कहा कि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा विकास की नई ऊंचाईयों को छूने का निरंतर प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इसी कड़ी में अब हाट-बाजारों का संवारने का कार्य भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शासन के प्रयासों से आम जनता के जीवन स्तर में सुधार आया है। बस्तर के जनजीवन में हाट-बाजारों का भी अपना विशेष महत्व है। उन्होंने कहा कि हाट-बाजारों के निर्माण से विक्रेताओं के साथ-साथ ग्रामीणों को भी सुविधा होगी।
मंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा जनता को आवागमन की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए गांव-गांव में सड़कों के जाल बिछाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि भानपुरी से नारायणपाल के मध्य लगभग 22 किलोमीटर लम्बी सड़क का निर्माण शीघ्र ही प्रारंभ होगा। लगभग 40 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाली सात मीटर चैड़ी इस सड़क के निर्माण से आवागमन के साथ-साथ सामाजिक आर्थिक गतिविधियों को नई गति मिलेगी। उन्होंने कहा कि शिक्षा उन्नति के लिए सबसे आवश्यक है। शिक्षा के इसी महत्व को ध्यान में रखते हुए गांव-गांव में स्कूल स्थापित किए गए, जिसके कारण अब ग्रामीणों में भी शिक्षा के प्रति रुचि बढ़ी है। उन्होंने कहा कि बस्तर के बच्चे अब प्रदेश के किसी भी दूसरे क्षेत्र के बच्चों से आगे हैं, यह बात भी राज्य शैक्षणिक एवं अनुसंधान परिषद के सर्वेक्षण में साबित हो चुकी है। मंत्री ने कहा कि बच्चों को शिक्षा के लिए भटकना न पड़े इसके लिए स्कूल और काॅलेज खोले गए। उन्होंने बताया कि भानपुरी काॅलेज में इस शैक्षणिक सत्र में दो विषयों के साथ स्नातकोत्तर की पढ़ाई भी शुरु की जाएगी। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में किए गए कार्यों के परिणाम अब दिखाई दे रहे हैं। कोसारटेडा में जलाशय के निर्माण के साथ ही किसानों को 6 हजार यूनिट तक निःशुल्क बिजली और शून्य प्रतिशत ब्याज पर कृषि ऋण दिए जाने से खेती-किसानी आसान हुई है। इसके साथ ही अब किसानों को मात्र सात से बीस हजार रुपए में सौर सुजला पम्प दिए जा रहे हैं, जिसकी वास्तविक लागत 4 से 6 लाख रुपए है। उन्होंने कहा कि सोलर ऊर्जा से चलित इस पम्प की स्थापना से किसानों को जीवन भर के लिए बिजली बिल की चिंता से मुक्ति मिल जाएगी, वहीं बिजली चले जाने के कारण खेती को होने वाले नुकसान की फिक्र भी नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजना से गृहिणियों को धुएं और बीमारियों से मुक्ति मिली वहीं इससे वन और पर्यावरण भी सुरक्षित रहेंगे। उन्होंने बताया कि इस वर्ष बस्तर जिले में लगभग 70 हजार एलपीजी कनेक्शन प्रदाय किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि गरीबों को छत वाले घर का सपना भी प्रधानमंत्री आवास योजना से साकार होगा। उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत 1 लाख 57 हजार रुपए दिए जाएंगे। इनमें मनरेगा अंतर्गत मजदूरी भुगतान तथा शौचालय निर्माण की राशि भी शामिल है।
इस अवसर पर जनपद अध्यक्ष श्रीमती शकुंतला कश्यप, जनपद सदस्य श्रीमती प्रेमवती, जनपद सदस्य श्रीमती जयमनी ठाकुर, जिला पंचायत के पूर्व उपाध्यक्ष श्री तरुण चोपड़ा, जनपद पंचायत बस्तर के पूर्व उपाध्यक्ष श्री रुप सिंह मंडावी सहित जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।