एनटीपीसी के नौवें इंडियन पावर स्‍टेशन-2020 का केन्‍द्रीय मंत्री श्री आर.के. सिंह ने किया उद्घाटन

रायपुर। भारत सरकार की महारत्‍न कम्‍पनी एनटीपीसी लिमिटेड द्वारा 13 और 14 फरवरी, 2020 को रायपुर में आयोजित किए जा रहे दो दिवसीय “इंडियन पॉवर स्‍टेशन- 2020 – अंतरराष्‍ट्रीय पावर प्‍लांट प्रचालन एवं अनुरक्षण (ओ. एण्‍ड एम.) सम्‍मेलन” का उद्घाटन केन्‍द्रीय विद्युत एवं नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं कौशल विकास और उद्यमिता राज्‍यमंत्री, श्री आर. के. सिंह ने आज, दिनांक 13 फरवरी 2020 (गुरूवार) को साइंस कॉलेज मैदान, रायपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय सभागृह में किया । इस अवसर पर केन्‍द्रीय विद्युत सचिव, श्री संजीव नंदन सहाय, सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी (सीईए) के चेयरपर्सन, श्री प्रकाश म्‍हास्‍के, एनटीपीसी के अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री गुरदीप सिंह व एनटीपीसी के निदेशक मंडल के सदस्‍यों सहित विद्युत मंत्रालय एवं एनटीपीसी के वरिष्‍ठ अधिकारीगण और ऊर्जा क्षेत्र में कार्य करने वाले देश-विदेश से पधारे प्रतिनिधिगण उपस्थित थे ।
 
उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केन्‍द्रीय विद्युत एवं नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं कौशल विकास और उद्यमिता राज्‍यमंत्री, श्री आर. के. सिंह ने कहा कि एनटीपीसी लिमिटेड पावर सेक्‍टर की एक मजबूत आधार स्‍तम्‍भ है । इस संगठन का मुख्‍य उद्देश्‍य है उचित कीमत पर उपभोक्‍ता को निर्बाध और निरन्‍तर बिजली उपलब्‍ध कराना ।
 
श्री आर. के. सिंह ने बताया कि वर्तमान में प्रति व्‍यक्ति ऊर्जा खपत लगभग सात गुना बढ़ गई है । इस मांग और खपत को बनाए रखने के लिए अपनी क्षमता में विस्‍तार करना जरूरी हो गया है । हमें अपनी क्षमता में विस्‍तार के समय पर्यावरण मंत्रालय द्वारा निर्धारित किए उत्‍सर्जन मानदंडों का भी ख्‍याल रखना होगा ताकि लोगों को निरन्‍तर ऊर्जा भी मिलती रहे और पर्यावरण का भी नुकसान न हो ।
 
केन्‍द्रीय मंत्री ने कहा कि ऊर्जा क्षेत्र में डिस्‍ट्रीब्‍यूशन लॉस सबसे बड़ी समस्‍या है । हालांकि हाल के वर्षों में यह काफी कम हुआ है लेकिन इस दिशा में अभी और ध्‍यान देने की जरूरत है । उन्‍होंने कहा कि प्रीपेड और मांग पर बिजली आपूर्ति की दिशा में कार्य करने की आवश्‍यकता है ।
 
श्री सिंह ने बिजली उत्‍पादकों से कहा कि हमें उत्‍पादन लागत के अनुकूलन और नवीकरणीयता का एकीकरण का भी ख्‍याल रखना है । हमारी पहली प्राथमिकता सातों दिन और चौबीसों घण्‍टे निरन्‍तर उपभोक्‍ताओं को बिजली उपलब्‍ध करना है इसका भी ख्‍याल रखना है । इसमें किसी भी प्रकार का समझौता नहीं करना है । उन्‍होंने कहा कि थरमल पावर प्‍लांट के लिए आने वाले दिनों में नवीकरणीय ऊर्जा गंभीर चुनौती है, लेकिन इस सेक्‍टर का भविष्‍य काफी उज्‍जवल है, क्‍योंकि ऊर्जा की मांग दिनों-दिन बढ़ती जा रही है ।
 
इस अवसर पर केन्‍द्रीय विद्युत सचिव, श्री संजीव नंदन सहाय ने पहले स्‍थापित सिंगरौली पावर स्टेशन की प्रथम इकाई के सिंक्रोनाइजेशन दिवस पर बधाई देते हुए कहा कि एनटीपीसी भारत की सबसे बड़ी ऊर्जा उत्‍पादक कम्‍पनी है और यह कंपनी उत्‍तरोत्‍तर सफलता की नई ऊंचाइयों की ओर बढ़ रही है ।
 
कार्यक्रम के प्रारम्‍भ में आईपीएस-2020 में पधारे अतिथियों का स्‍वागत् करते हुए एनटीपीसी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक श्री गुरदीप सिंह ने बताया कि इस सम्‍मेलन का आयोजन दूसरी बार रायपुर में किया जा रहा है. उन्‍होंने बताया कि महारत्न एनटीपीसी द्वारा प्रत्येक वर्ष 13 फरवरी को इस अखिल भारतीय पावर स्टेशन सम्मेलन का आयोजन सिंगरौली स्थित अपने प्रमुख पावर स्टेशन की प्रथम इकाई के इसी दिवस को हुए सिंक्रोनाइजेशन की महत्‍वपूर्ण उपलब्धि को रेखांकन के रूप में किया जाता है । श्री गुरदीप सिंह ने बताया कि आईपीएस-2020 एनटीपीसी का नौवां सम्‍मेलन है ।
 
  इस अवसर पर केन्‍द्रीय मंत्री श्री आर.के. सिंह द्वारा एनटीपीसी की सस्‍टेनेबिलिटी डेवलपमेंट रिपोर्ट का विमोचन किया गया और एनटीपीसी के पावर स्‍टेशनों को उच्‍च प्रदर्शन हेतु बिजनेस एक्सिलेंस आवार्ड प्रदान किए गए ।
 
  इस अवसर पर टेक्‍नोगैलेक्‍सी 2020 प्रदर्शनी भी आयोजित की जा रही है, जहां 42 से अधिक भारतीय व अंतरराष्‍ट्रीय निर्माताओं के उत्‍पाद व तकनीकें प्रदर्शित की गयी हैं । नौवें आइपीएस-2020 सम्‍मेलन की अति-महत्‍वपूर्ण थीम ‘ऑप्टिमाइजेशन ऑफ जनरेशन कॉस्‍ट एण्‍ड इंटीग्रेशन ऑफ रिन्‍यूएबल्‍स’ है । इस दो-दिवसीय सम्‍मेलन में सलाहकार एवं विनियामक प्राधिकरण, पावरप्‍लांट, प्रोफेशनल्‍स, पावर कंसल्‍टेंट्स, स्‍टार्ट-अप्‍स, विद्युत उपकरण निर्माता आदि के प्रतिनिधियों सहित विद्युत क्षेत्र के प्रतिभागी शामिल हो रहे हैं ।

Leave a Reply