भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग तथा सनातन हिंदू धर्म में पूजनीय तुलसी केवल एक पौधा ही नहीं है अपितु यह रोगों के लिए रामबाण औषधि तथा वास्तु दोषों की निवारण कर्ता भी है. गुणों की खान इस तुलसी की मनुष्य जीवन में व्यापक महत्ता है. यहां हम आपको बता रहे हैं तुलसी के विभिन्न गुणों के बारे में.

हमारे घर-आंगन को महकाने वाली तुलसी में हमारे जीवन को संवारने व महकाने की भी योग्यता है. इसके विभिन्न गुणों व प्रभाव से हमारे जीवन में समृद्धि की वर्षा हो सकती है. यह एक ऐसा पौधा है जिसकी जड़, पत्ती, फूल, मंजरी, डाली यानी कि संपूर्ण पौधा मनुष्य के लिए उपयोगी है.

तुलसी का वास्तु पक्ष

वास्तु शास्त्र में पेड़-पौधों को बहुत महत्व दिया गया है. इन्हीं में से महत्वपूर्ण पौधा है तुलसी का. घर में तुलसी का पौधा उत्तर-पूर्व दिशा में रखें और तुलसी का पौधा जमीन से कुछ उंचाई पर ही लगाना उचित है.

घर में वास्तु दोष दूर करने के लिए इसे दक्षिण-पूर्व से लेकर उत्तर पश्चिम तक किसी भी खाली कोने में लगाया जा सकता है. यदि खाली स्थान ना हो, तो गमले में भी तुलसी के पौधे को लगाया जा सकता है. तुलसी के पौधे को लगाया जा सकता है. तुलसी का पौधा किचन के पास रखने से घर के सदस्यों में आपसी सामंजस्य बढ़ता है.

अगर संतान बहुत ज्यादा जिद्दी और अपनी मर्यादा से बाहर है तो पूर्व दिशा में रखे तुलसी के पौधे के तीन पत्ते रोज उसे किसी ना किसी तरह खिला दें.

यदि आपकी कन्या का विवाह नहीं हो रहा हो, तो तुलसी के पौधे को दक्षिण-पूर्व में रखकर उसे नियमित रूप से जल अर्पण करें. इस उपाय से जल्द ही योग्य वर की प्राप्ति होगी.

यदि आपका कारोबार ठीक से नहीं चल रहा है तो तुलसी के पौधे को नैऋत्य कोण में रखकर हर शुक्रवार को कच्चा दूध चढ़ाएं.

नौकरी में यदि उच्चधिकारी की वजह से परेशानी हो तो ऑफिस में जहां भी खाली जगह हो वहां पर सोमवार को तुलसी के सोलह बीज किसी सफेद कपड़े में बांधकर कोने में दबा दें. इससे आपके संबंध सुधरने लगेंगे.

हिन्दू मान्यता के अनुसार तुलसी किसी-किसी की किस्मत भी चमका सकती है. इसीलिए कुछ लोग कोई भी शुभ कार्य करते समय तुलसी की पत्ती मुंह में डाल लेते हैं.

ऐसी मान्यता है कि तुलसी का पौधा घर में होने से घर वालों को बुरी नजर  प्रभावित नहीं कर पाती और अन्य बुराइयां भी घर और घरवालों से दूर ही रहती है.

तुलसी का पौधा घर का वातावरण पूरी तरह पवित्र और कीटाणुओं से मुक्त रखता है. इसके साथ ही देवी-देवताओं की विशेष कृपा भी उस घर पर बनी रहती है. जहां तुलसी होती है.

कभी-कभी कुछ कारणों से तुलसी का पौधा सूख जाता है. सूखे हुए तुलसी के पौधे को घर में नहीं रखना चाहिए बल्कि इसे किसी पवित्र नदी में प्रवाहित कर देना चाहिए.

एक पौधा सूख जाने के बाद तुरंत ही दूसरा तुलसी का पौधा लगा लेना चाहिए.सूखा हुआ तुलसी का पौधा घर में रखना अशुभ माना जाता है. इससे विपरीत परिणाम भी प्राप्त हो सकते हैं. घर की बरकत पर बुरा असर पड़ सकता है. इसी वजह से घर में हमेशा पूरी तरह स्वस्थ तुलसी का पौधा ही लगाया जाना चाहिए.