नयी दिल्ली. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के उस आदेश के बाद लोग काफी गुस्‍से में हैं, जिसमें घोषणा की गई है कि जून से उसके एटीएम से सभी नकद निकासी पर शुल्क लगाया जाएगा. बैंक के नए नियम के अनुसार हर बार जब कोई एसबीआई ग्राहक एटीएम से कैश निकालेगा, तो 25 रुपये का शुल्‍क लगाया जाएगा साथ ही 5000 रुपये से अधिक के पुराने और गंदे नोटों के बदले पर भी शुल्क लगाया जाएगा.

बैंक के नए आदेश के मुताबिक जब भी कोई एसबीआई ग्राहक एटीएम से पैसे निकालेगा तो उसे 25 रुपए शुल्क देना होगा. साथ ही 5000 रुपए से ज्यादा के पुराने और खराब हो चुके नोट बदलवाने पर भी शुल्क देना होगा. यह व्यवस्था जून के बाद लागू हो जाएगी.

इस घोषणा का केरल में लोग कड़ा विरोध कर रहे हैं. सीपीआई-एम सांसद एमबी राजेश का कहना है, ‘यह बहुत ज्यादा सख्ती है और केंद्र सरकार लोगों से धोखा कर रही है. जब से नोटबंदी हुआ है तब से सरकार लोगों को डरा रही है. संसद के बाहर और अंदर इसकी कड़ा विरोध किया जाएगा.

मशहूर फिल्म पर्सनेलिटी थिलाकन ने इसे ‘सरकार की जनता विरोधी नीति’ बताया. वहीं, पैसा निकाल रहे एक सेवानिवृ​त्त शिक्षक ने कहा कि केंद्र ने बहुत चालाकी से लोगों को धोखा दिया है. पहले उन्होंने केरल के अपने बैंक का एसबीआई में विलय कर दिया. ​अब एसबीटी के ग्राहक एसबीआई के ग्राहक बन गए हैं और उन्हें भी ये शुल्क देना होगा.