बिहार : ब्लाक क्वारंटाइन सेंटर एक अनूठा प्रयोग है, जिसकी प्रशंसा भारत सरकार के स्तर पर भी हो रही है

पटना : कोरोना संक्रमण की अद्यतन स्थिति को लेकर मुख्यमंत्री के स्तर पर लगातार समीक्षा की जा रही है और लोगों को सहायता प्रदान करने के लिये सभी आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं। आज भी मुख्यमंत्री ने सभी संबंधित विभागों के अपर मुख्य सचिव/प्रधान सचिव/सचिव, जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की है।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि सभी ग्रामपंचायतों में कोरोना संक्रमण से लोगों की सुरक्षा के लिये ग्रामपंचायतों के सभी परिवारों को सरकार की तरफ से साबुन और चार मास्क दिये जायें। माइकिंग के माध्यम से लोगों को कोरोना संक्रमण के संबंध में ज्यादा से ज्यादा जागरूक किया जाय। स्किल सर्वे के आधार पर प्रवासी श्रमिकों के लिये रोजगार सृजन करने हेतु संबंधित निर्माण इकाईयों की स्थापना राज्य में होनी चाहिए, इस दिशा में समुचित कार्रवाई करें ताकि लोगों को स्थायी रूप से बिहार में ही रोजगार उपलब्ध कराया जा सके। क्वारंटाइन सेंटर पर बच्चों एवं महिलाओं खासकर गर्भवती महिलाओं को ध्यान में रखते हुए पुख्ता प्रबंध करें। उनके लिये सेंटर पर अलग व्यवस्था सुनिश्चित हो। ब्लॉक क्वारंटाइन सेंटर एक अनूठा प्रयोग है, जिसकी प्रशंसा भारत सरकार के स्तर पर भी हो रही है लेकिन यह बहुत बड़ी जिम्मेवारी है और हमलोग अपना सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास कर रहे हैं। लोगों को हर स्तर पर राहत देने के लिये सभी जरूरी कदम उठाये जा रहे हैं। आपदा राहत केन्द्रों की संख्या अभी 172 है, जहां 68,591 हजार लोग लाभ ले रहे हैं।

ब्लॉक क्वारंटाइन केन्द्र की संख्या अभी 3,665 है, जिसमें 1लाख 22हजार 4लोगआवासितहैं।बिहार के जो लोग बाहर फॅसे हुये हैं, वे लोग मुख्यमंत्री सचिवालय, आपदा प्रबंधन विभाग एवं बिहार भवन के स्थानिक आयुक्त के कार्यालय में फोन कर अपनी समस्यायें बता रहे हैं। प्राप्त फोन पर अधिकारी रोजाना लोगों से फीडबैक प्राप्त कर रहे हैं और उसके आधार पर लोगों की समस्याओं का संबंधित राज्य सरकारों तथा जिला प्रशासन से समन्वय कर समाधान किया जा रहा है। अब तक 1 लाख 93 हजार कॉल/मैसेज प्राप्त हुये हैं। इनमें 18 लाख 64 हजार से ज्यादा लोग सम्मिलित हैं।

रोजगार सृजन के लिए 3 लाख 47 हजार योजनायें फंक्शनल हैं और अब तक 1 करोड़ 68 लाख 41 हजार से ज्यादा मानव दिवस सृजित किये गये हैं। अधिक से अधिक रोजगार सृजन हो, इसके लिए हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं। लॉकडाउन को देखते हुए अधिक से अधिक लोगों तक राहत पहुंचायी जा रही है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि 7 दिनों के अंदर इच्छुक लोगों को बिहार लाने की तैयारी सुनिश्चित करें। आपदा प्रबंधन विभाग के परिवहन नोडल पदाधिकारी से अभी तक प्राप्त सूचना के अनुसार आज बिहार आने वाली ट्रेनों की 11/05/2020 संख्या 19 है, जिसके माध्यम से 23,286 लोग आ रहे हैं। कल आने वाली प्रस्तावित ट्रेनों की संख्या 21 है, जिससे 25,052 लोग आयेंगे।

पिछले 24 घंटे में कोरोना के 61 पॉजिटिव मामले सामने आये हैं और अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 714 हो गयी है। 24 घंटे में 23 लोग स्वस्थ होकर अपने घर लौटे हैं। अब तक कुल 377 लोग स्वस्थ हुये हैं। बिहार में अब तक कुल 6 लोगों की मौत हुई है। इस प्रकार बिहार में फिलहाल कोरोना संक्रमण के 331 एक्टिव मामले हैं। बिहार के 38 जिलों में से 37 जिले कोविड-19 की चपेट में हैं। अब तक कुल 34,662 सैंपल्स की जांच की जा चुकी है। राज्य के तीन अस्पतालों- एन0एम0सी0एच0 पटना, ए0एन0एम0सी0एच0 गया, भागलपुर के जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय को कोविड अस्पताल के रूप में चिन्हित किया गया है। अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासियों के लिए ब्लॉक स्तरीय क्वारंटाइन सेंटर पर उन्हें क्वारंटाइन करन ेकी व्यवस्था ह

Leave a Reply