प्रदेश के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसान, गरीब, उद्योगों को बिजली दर न बढ़ाकर पहुंचाई राहत

पिछली भाजपा की सरकार ने कभी किसान, गरीब के बारे में विचार नहीं किया

रमन सिंह सरकार के समय हर साल बिजली बिल बढ़ते थे

कांग्रेस सरकार ने बिजली बिल हाफ किया है

रायपुर/01 जून 2019। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एम.ए. इकबाल ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार तथा छत्तीसगढ़ विद्युत नियामक आयोग ने 2020-21 के लिये जो विद्युत दरों में वृद्धि न करके आम जनता गरीब, किसान, तथा स्टील उद्योग को चलाने वालो को तोहफा दिया है। बिजली की दरों के संबंध में नियामक आयोग ने जनसुनवाई करके जनता की बातें सुनी तथा बिजली की दरों का निर्धारण किया। भूपेश सरकार ने वर्तमान के कोरोना वायरस के संक्रमण काल में आयी विपदा को देखते हुये सही मायने में जनता के प्रति अपनी हमदर्दी जताते हुये बिजली की दर में वृद्धि न करके पिछली दरों से ही इसे लागू करने का जो निर्णय लिया है वह स्वागत योग्य है। इसकी कांग्रेस पार्टी प्रशंसा करती है और साथ में आम जनता को दिये जाने वाला ‘‘बिजली बिल हाफ योजना’’ के लाभ को आगे जारी रखा है। इससे प्रदेश की जनता बहुत खुश है।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एम.ए. इकबाल ने विज्ञप्ति में आगे बताया कि प्रदेश में जो चेरिटेबल चल रहे है जहां कोरोना वायरस संक्रमित मरीजो का इलाज होता है तथा किसानों का संबंध सीधे राईस मिलों से होने के कारण उनको बिजली कम दर पर प्रदान की जायेगी। नियामक आयोग के अनुसार 0-100 यूनिट तक 3 रू. 40 पैसे की पिछली दर से बिलिंग की जायेगी। साथ ही देर से भुगतान किये जाने पर अधिभार (सरचार्ज) की राशि 1.5 प्रतिशत से कम करके 1 प्रतिशत किया गया है जिससे सरकार पर लगभग करोड़ो रू. का वित्तीय भार आयेगा, वहीं स्टील उद्योग के बिलिंग पर जो उद्योग लगातार अधिक बिजली की खपत करते है उनके लोड फेक्टर पर 8 प्रतिशत कम करके छूट दी गयी है। इससे उद्योगों में काम करने वाले गरीब मजदूरों के सिर पर जो छटनी का खतरा मंडरा रहा था वह दूर होगा। साथ ही उपभोक्ताओं को विद्युत प्रदाय में औसत 14 पैसे का लाभ दिया गया।
प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह जिनके पास पिछले 15 वर्षो से विद्युत विभाग का प्रभार था, उनके द्वारा किसान, गरीब जनता आदि के लिये कोई सोच नहीं रखते थे और निरंतर हर साल बिजली की दरों में बढ़ोत्तरी करते थे और यही कारण है कि 2003 में प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद 2018 तक इनके द्वारा 300 प्रतिशत की बिजली की दरों में वृद्धि की गयी। जब से प्रदेश में संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार आयी है तब से विद्युत विभाग जो उनके अंतर्गत आता है बिजली बिल हाफ योजना आज तक बहुत सारी सुविधाये एवं राहत प्रदान किये गये है। यही कारण है कि आज पूरे देश में प्रदेश के अन्य राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ प्रदेश एक ऐसा राज्य है जो कम दर पर 24 घंटे एवं उच्च गुणवत्ता की बिजली आपूर्ति की जा रही है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एम.ए. इकबाल ने आरोप लगाते हुये कहा है कि डॉ. रमन सिंह जैसे भाजपा के नेता अखबारों में जनता के लिये घड़ियाली आंसू बहाते दिखते है जो यह कहते है कि मजदूरों के खाते में एक पैसा नहीं आया उनको अपने गिरेबान में झांक कर देखना चाहिये कि उनकी पार्टी और नेता ने जो 20 लाख करोड़ की आर्थिक पैकेज की घोषणा की है उसमें कितने गरीबों के खाते में पैसा आया। श्री भूपेश बघेल ने हर क्षेत्र में अच्छे कार्य करके विरोधियों को भी उनका लोहा मानने विवश कर दिया है।

Leave a Reply