छत्तीसगढ़ की बिजली कंपनियों का निजीकरण

रायपुर : छत्तीसगढ़ सरकार ने  राज्य विद्युत मंडल की पांच कंपनियों को पब्लिक से प्राइवेट में तब्दील कर दिया है। राज्य शासन ने कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 18 व 14 के तहत ऐसा किया है। हालांकि इस आदेश का छत्तीसगढ़ बिजली अभियंता संघ ने विरोध करना शुरू कर दिया है। संघ के सचिव पीके खरे के मुताबिक आदेश में सेवा शर्तों का कहीं उल्लेख नहीं है.यही नहीं कंपनियों के गठन की तारीख भी गलत है.. लिहाजा इस आदेश को निरस्त किया जाना चाहिए।

इधर ऊर्जा विभाग के अपर मुख्य सचिव एन बैजेंद्र कुमार ने कहा है कि कंपनी के प्राइवेट करने का आदेश महज तकनीकी बदलाव है… कंपनियों में किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं होगा. जिन पांच कंपनियों में बदलाव की बात कही जा रही है.. उनमें छत्तीसगढ़ स्टेट पावर होल्डिंग कंपनी लिमिटेड.. छत्तीसगढ़ स्टेट पावर जेनरेशन कंपनी लिमिटेड.. छत्तीसगढ़ स्टेट पावर ट्रांसमिशन कंपनी लिमिटेड… छत्तीसगढ़ स्टेट पावर ड्रिस्ट्रिब्यूसन कंपनी लिमिटेड और छत्तीसगढ़ स्टेट पावर ट्रेडिंग कंपनी लिमिटेड शामिल हैं। कंपनियों के प्राइवेट होने के बाद अब कार्यरपत 17 हजार 400 कर्मचारियों की मुश्किलें बढ़ती दिख रही है।

Leave a Reply