अयोध्यालखनऊ: यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज अयोध्या में कहा कि राम मंदिर का मसला बातचीत के जरिए जल्द हल किया जाना चाहिए. अब तो कई मुस्लिम संगठन भी राम जन्मभूमि हिंदू समाज को सौंपने के लिए तैयार हो गए हैं. योगी ने अयोध्या के विकास के लिए 350 करोड़ की योजनाओं की घोषणा भी की. योगी की इस यात्रा को बीजेपी के मंदिर मुद्दे को फिर गर्माने की कोशिश समझा जा रहा है.

बुधवार को अयोध्या की पतली गलियों में योगी का काफिला पहुंचा…उनके चरण छुए गए…जय श्रीराम के नारे गूंजे. योगी हनुमान गढ़ी की 51 सीढ़ियां चढ़कर दर्शन को पहुंचे. उन्होंने बजरंगबली की परिक्रमा की. यहां रामलला के दर्शन से पहले बजरंगबली के दर्शन की रवायत है. योगी ने उम्मीद जताई कि अयोध्या मसला जल्द बातचीत से हल होगा. योगी ने कहा कि “अयोध्या में भगवान राम की जन्मभूमि के विवाद का हल बातचीत से जल्द होना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट ने भी संवाद का एक मौका दिया है.”

योगी को देखने राम जन्मभूमि मंदिर के रास्ते में तमाशबीनों की भीड़ थी

महंत से मुख्यमंत्री बने योगी को देखने राम जन्मभूमि मंदिर के रास्ते में तमाशबीनों की भीड़ थी. सड़कों से लेकर छतों तक लोग जमा थे. रामलला के दर्शन के बाद योगी सरयू के किनारे पहुंचे, जहां दरिया पर पुलिस का कड़ा पहरा था और घाटों पर खास सफाई थी. योगी ने यहां विधि-विधान से पूजा और आचमन किया और सरयू की आरती उतारी. बाद में उन्होंने कहा कि तमाम मुस्लिम भी मंदिर बनने के हिमायती हैं. योगी ने कहा कि “लखनऊ के कई मुस्लिम संगठनों ने राम जन्मभूमि हिंदू समाज को सौंपने की बात कही है. ऐसी बातें लगातार आ रही हैं. यहां दिगंबर अखाड़े में भी कुछ लोगों ने मुझसे कहा.”