पटना: रिटायर्ड डीएसपी ने लाइसेंसी पिस्टल से खुद को मारी गोली, पुलिस को मिला सुसाइड नोट

पटना : बेउर थाना क्षेत्र के मित्रमंडल कॉलनी फेज टू में रिटायर डीएसपी के चंद्रा ने अपनी लाइसेंसी पिस्टल से खुद को गोली मारकर भेजा उड़ा लिया। यह घटना मंगलवार की सुबह करीब आठ बजे घटी।

मौके से पुलिस को खून से सनी पिस्टल तथा डीएसपी द्वारा लिखे गये दो सुसाइड नोट पुलिस को मिले हैं, जिसमें एक सुसाइड नोट में डिप्रेशन व पड़ोसी द्वारा की गई प्रताड़ना को अहम कारण बताया है जबकि दूसरे सुसाइड नोट में बेटे को मां समेत परिवार का ख्याल रखने का जिक्र किया है। शव को कब्जे में लेकर पुलिस मामले की जांच कर रही है। देर रात इस मामले में पुलिस को कोई आवेदन नहीं मिला था। बेउर थाना प्रभारी फूलदेव चौधरी का कहना था लिखित आवेदन मिलने पर मौत के जिम्मेदार ठहराये गये पड़ोसी संतोष कुमार सिन्हा के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने समेत अन्य सुसंगत धाराओं में केस दर्जकर कार्रवाई की जाएगी।

हाथ में ही फंसी थी पिस्टल
बताया गया है कि घटना के समय रिटायर डीएसपी अपने मकान के प्रथम तल्ले पर अकेले थे। वहीं उनकी पत्नी व छोटा पुत्र ग्राउंड फ्लोर पर अपने-अपने कमरे में थे। अचानक गोली की आवाज सुनने पर छोटे पुत्र निश्चय श्रेष्ठ दौड़ कर ऊपर गया तो पिता फर्श पर गिरे हुए थे। चारों तरफ खून पसरा था, और हाथ में पिस्टल फंसी थी। अस्पताल ले जाने से पहले खून से लथपथ फर्श पर तड़प रहे डीएसपी की सांसें उखड़ गईं। इस घटना के बाद परिवार वालों में कोहराम मच गया।
डीएसपी के पुत्र ने इसकी जानकारी बेउर पुलिस को दी। घटना की सूचना पर बेउर थानाध्यक्ष फूलदेव चौधरी मौके पर पहुंचे। बाद में फुलवारीशरीफ डीएसपी संजय कुमार पांडेय व फारेंसिंक टीम पहुंच कर पूरे मामले की जांच की। जांच के बाद बेउर पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फुलवारीशरीफ डीएसपी संजय कुमार पांडेय ने कहा कि प्रारंभिक साक्ष्य के समेत कई तरह के साक्ष्य मिले हैं। जिससे यही प्रतीत हो रहा है कि उन्होंने आत्महत्या की है।

सोलह साल से थे अवसाद में थे डीएसपी
डीएसपी संजय पांडेय ने बताया कि जांच में यह भी पाया गया है कि वह पिछले 16 साल से डिप्रेशन में थे। इसका इलाज भी चल रहा था। दोनों सुसाइड नोटों की जांच के बाद ही आगे क्या कार्रवाई की जाएगी। इसका निर्णय लिया जायेगा। सुबह उठने के बाद सिर्फ चाय पिये थेउक्त जानकारी देते हुए रिटायर्ड डीएसपी के चंद्रा के छोटे पुत्र निश्य श्रेष्ठ ने बताया कि मैं और मेरी मां नीचे थीं।, उपर कमरे में मेरे पिता थे, सुबह उठने के बाद चाय भी पीये थे। लगभग आठ बज रहा था ।इसी दौरान ऊपर से जोर की आवाज सुनाई दी, जिसके बाद जैसे ही ऊपर गया तो देखा पापा फर्श पर गिरे हैं। इसकी सूचना अपने बड़े भाई, बहन, बहनोई, परिवार के अन्य सदस्य, पिता के दोस्तों व थाना को दिया।

बड़ा बेटा बैंक में अफसर
बताया गया है मृतक डीएसपी को दो पुत्र व एक पुत्री है। एक पुत्र व एक पुत्री की शादी हो चुकी हैै। बड़ा बेटा प्रचेय श्रेष्ठ मुंबई के एक बैंक में अधिकारी हैं। छोटा पुत्र निश्चय श्रेष्ठ पिता के साथ ही में रहता था और पटना हाई कोर्ट में अधिवक्ता है। इसके साथ ही पुत्री प्रियंका अपने पति मदन मोहन के साथ में पुनाईचक में रहती है। पिता की मौत की सूचना पर वह मौके पर आयीं।

(साभार : livehindustan.com)

Leave a Reply