बाबा रामदेव समेत पांच के खिलाफ एफआईआर

नई दिल्ली : पतंजलि आयुर्वेद द्वारा कोरोना को ठीक करने का दावा करते हुए बीते दिनों एक दवा लांच की गई थी, तब इसे लोगो ने हाथो हाथ लिया था , मगर अब यही दवा बाबा रामदेव और पतंजलि आयुर्वेद के लिए सर दर्द बनती जा रही है. इस दवा को लेकर राजस्थान में योग गुरु बाबा रामदेव, पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बालकृष्ण और तीन अन्य के खिलाफ कोरोना ठीक करने की दवाई का दावा करने के मामले में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

बतादें पतंजलि ने निम्स जयपुर में कोरोनिल दवा का परीक्षण करने का दावा किया था. निम्स के अध्यक्ष और चांसलर डॉ. बीएस तोमर ने कहा “हमारे पास मरीजों पर परीक्षण करने के लिए सभी आवश्यक अनुमति थी. परीक्षण से पहले CTRI से अनुमति ली गई थी, जो ICMR का एक निकाय है. मेरे पास इसके दस्तावेज हैं.” उन्होंने बताया कि “NIMS, जयपुर में 100 मरीजों पर इस दवा का ट्रायल किया गया था. परिणाम के अनुसार 3 दिनों में 69% मरीज ठीक हो गए. 7 दिनों में 100% मरीज ठीक हो गए.” कोरोनिल को इम्युनिटी बूस्टर या दवा के रूप में प्रचारित किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने इस संबंध में 2 जून को राजस्थान सरकार के स्वास्थ्य विभाग को सूचित किया था.

Leave a Reply