उपराष्‍ट्रपति ने “लोकल” इंडिया को “ग्‍लोकल” इंडिया में बदलने के लिए प्रत्‍येक भारतीय से आत्‍मनिर्भर भारत अभियान अपनाने को कहा

नई दिल्ली : उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज नवाचार और उद्यमिता को आगे बढ़ाने के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने का आह्वान किया और प्रत्‍येक भारतीय से आत्‍मनिर्भर भारत अभियान अपनाने को कहा ताकि “लोकल” इंडिया को “ग्‍लोकल” इंडिया में बदला जा सके।

उपराष्ट्रपति निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से एलीमेंट्स मोबाइल ऐप के वर्चुअल लॉन्च पर बोलते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि आत्‍मनिर्भर भारत अभियान का उद्देश्य आधुनिक प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके, मानव संसाधन को समृद्ध करके, और मजबूत आपूर्ति श्रृंखला बनाकर बुनियादी ढांचे को मजबूत करके देश की आर्थिक क्षमता को बढ़ाना और बहुत बड़ा परिवर्तन करना है।

उन्होंने आत्‍मनिर्भर भारत अभियान को अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में देश भर में विकास की शक्तियों को मजबूत करने के लिए एक मिशन बताते हुए कहा कि यह उद्यमशीलता को बढ़ावा देने, ग्रामीण-शहरी सहजीवी विकास के लिए नवाचार और एक पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करने के लिए एक लॉन्च पैड था।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि एटम-निर्भार भारत अभियान का आह्वान संरक्षणवाद या अलगाववाद के लिए नहीं, बल्कि एक व्यावहारिक विकास रणनीति अपनाने के लिए है, जो देश को अपनी अंतर्निहित शक्तियों को पहचानने और भुनाने में सक्षम बनाएगा।

उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि आत्‍मनिर्भर अभियान संरक्षणवाद अथवा अलगाववाद का आह्वान नहीं, बल्कि एक व्‍यावहारिक विकास रणनीति अपनाने के लिए था जिससे देश अपने अंदर मौजूद ताकत को पहचानने और उसका लाभ उठाने में सक्षम हो।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह काफी उचित था कि प्रधानमंत्री ने प्रतिभाशाली वैज्ञानिकों और प्रौद्योगिकी विशेषज्ञों की वजह से भारत के आईटी महाशक्तियों में से एक बनने की पृष्ठभूमि में कल ‘आत्मानिर्भर भारत ऐप इनोवेशन चैलेंज’ की घोषणा की है।

उन्होंने कहा कि यह भारतीय आईटी विशेषज्ञों को हमारे जीवन की गुणवत्‍ता को बढ़ाने के लिए विभिन्न उपयोगों के लिए ऐप तैयार करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। श्री नायडू ने कहा, जैसा कि प्रधानमंत्री ने परिकल्पना की है, इसके परिणामस्वरूप विश्व स्तरीय ‘मेड इन इंडिया ’ऐप बनाए जाएंगे और एक आत्‍मनिर्भर ऐप इकोसिस्टम’ तैयार होगा।

श्री नायडू ने जोर देकर कहा, स्वदेशी ऐप एलीमेंट्स बनाने में एक हजार से अधिक आईटी पेशेवरों के प्रयासों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि नये भारत को जोशपूर्ण युवा विचारकों की आवश्‍यकता है जो प्रयोग और खोज करने के इच्छुक हैं। श्री नायडू ने जोर देकर कहा, “हमें सिर्फ नकल नहीं करनी चाहिए। नवाचार 21वीं सदी का प्रहरी है। हमारे पास सफलता के लिए सभी चीजें हैं। हमारे पास पथ प्रदर्शक हैं जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में वैश्विक ब्रांडों का निर्माण किया है ”, ।

अपनी खुशी व्यक्त करते हुए कि यह ऐप आठ भारतीय भाषाओं में उपलब्ध होगा, उन्होंने उम्मीद जताई कि यह सभी प्रमुख भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराया जाएगा।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारतीय तकनीकी उद्योग और पेशेवरों द्वारा इस तरह की पहल वास्तव में सराहनीय है क्योंकि उन्होंने न केवल प्रौद्योगिकी में भारत के कौशल का प्रदर्शन किया, बल्कि यह आत्‍मनिर्भर भारत की ओर भी एक कदम था। “मुझे उम्मीद है कि यह ऐप लोगों द्वारा उपयोग किए जा रहे कई विदेशी ऐप्स के लिए एक अच्छा देसी विकल्प साबित होगा।”

श्री नायडू ने भारत को हर क्षेत्र में प्रमुख शक्ति बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया, चाहे वह विज्ञान और प्रौद्योगिकी, अर्थव्यवस्था, रक्षा या मानव विकास हो ।

श्री नायडू ने कोविड​​-19 महामारी सहित देश के सामने मौजूद अनेक आंतरिक और बाहरी चुनौतियों की चर्चा करते हुए कहा, भारत इतिहास के एक महत्वपूर्ण क्षण से गुजर रहा है। उन्होंने कहा, “लेकिन हमें अपने ऊपर डाली गई चुनौतियों के जवाब में दृढ़ रहना चाहिए।”

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर राष्ट्र को ऐप को समर्पित करते हुए, उपराष्‍ट्रपति ने आत्‍मनिर्भर भारत की दिशा में इस बदलाव में गुरूओं की महत्वपूर्ण भूमिका की याद दिलाई।

आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक, गुरुदेव श्री श्री रविशंकर जी, जीएमआर ग्रुप के अध्यक्ष, ग्रांधी मल्लिकार्जुन राव, योग गुरु, बाबा रामदेव, रामोजी ग्रुप के अध्यक्ष, श्री चौ. रामोजी राव, सुमेरु सॉफ्टवेयर सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड के अध्‍यक्ष, श्री ए एल राव और अन्य गणमान्य व्यक्ति वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ऐप लॉन्च में शामिल हुए।

Leave a Reply