मंदसौर: मंदसौर गोलीकांड के बाद मध्य प्रदेश के दूसरे जिलों में भी किसानों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. मंदसौर से शुरू हुई हिंसा मध्य प्रदेश के  उज्जैन, देवास, खरगौन, नीमच और सीहोर तक फैल गई है. देवास में तो प्रदर्शनकारी पुलिस प्रशासन पर भारी पड़ते नजर आए.

राजधानी भोपाल से करीब डेढ़ सौ किलोमीटर दूर देवास में भी किसान हिंसा पर उतर आए. आंदोलनकारियों ने एक बस पर जमकर पत्थरबाजी की उस वक्त बस के अंदर यात्री मौजूद थे और बच्चे चीख रहे थे लेकिन बाहर से पत्थर बरसना बंद नहीं हुआ. बाद में प्रदर्शनकारियों ने यात्रियों को निकालकर बस को आग के हवाले कर दिया.

देवास में हाइवे पर कई बसों में आग लगा दी गई. इधर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को  मंदसौर दौरे की अनुमति नहीं दी गई है. पुलिस का कहना है कि अभी जिस तरह के हालात है ऐसी स्थिति में हम किसी भी वीआईपी को यहां आने की इजाजत नहीं दे सकते.

मंदसौर की घटना को लेकर उज्जैन में भी किसानों ने प्रदर्शन किया. गुस्साए किसानों ने पुलिस की गाड़ियों पर जमकर पत्थर बरसा. उज्जैन में किसानों के पथराव में कई पुलिसवाले घायल हो गए.

मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद

राज्य के चार जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद किए जाने की खबर है. पूरी घटना के बाद राज्य सरकार और पुलिस प्रशासन की कार्यकुशलता पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं. सवाल पूछा जा रहा है कि आखिर बात को इस हद तक बिगड़ने क्यों दिया गया?