वाशिंगटन: केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि सरकार को पता था कि नोटबंदी से भारत में नगद की किल्लत हो जाएगी, लेकिन इससे अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण की दिशा में बड़े और ठोस कदम जैसे दीर्घकालिक लाभ मिलेंगे.

ब्लूमबर्ग टीवी को दिए गए एक इंटरव्यू में जेटली ने कहा, ‘‘हमें इस तथ्य के बारे में पता था कि नोटबंदी के कारण नगद की किल्लत का एक या दो तिमाही तक हम पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा. लेकिन कुछ दीर्घकालिक लाभ भी देखे गए थे.’’ जेटली से जब पूछा गया कि क्या नोटबंदी सफल रही, तो इस पर उन्होंने कहा कि इससे अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण की दिशा में बड़े और ठोस कदम देखने को मिले हैं.