कोरोना महामारी प्रतिबंधों और ईद-उल-अजहा का उत्सव

रजनी राणा चैधरी

ईद-उल-अजहा, विश्वव्यापी मनाया जाने वाला इस्लामी त्योहारों में से दूसरा सबसे बड़ा त्योहार है। जमात-ए-इस्लामी हिंद की शरिया परिषद ने कोरोना महामारी के कारण सरकार द्वारा लगाए गए कई प्रतिबंधों के कारण, मुस्लिम समुदाय से ईद-उल-अजहा मनाने के कई दिशानिर्देश जारी किए हैं। हदीस का हवाला देते हुए, शरिया काउंसिल ने कहा है कि अल्लाह की नजर में कुरबानी सबसे पाक काम है और इसलिए मुसलमानों को ईद-उल-अजहा के त्योहार के मौके पर कुरबानी देने की कोशिश करनी चाहिए। काॅउंसिल ने कहा है कि जिन लोगों पर कुर्बानी अनिवार्य है, उन्हें सरकारी प्रतिबंध और अन्य बाधाओं को ध्यान में रखते हुए अपने कुर्बानी को एक अलग जगह पर करने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा, यदि उनकी कुर्बानी किसी दूसरी जगह पर करवाना संभव नहीं है, तो उन्हें त्योहार के बाद कुर्बानी के बराबर की राशि गरीबों को सदका (दान) के रूप में देना चाहिए। शरिया काउंसिल ने मुस्लिम समुदाय से आग्रह किया है कि वे दीन (धर्म) और शरिया (न्यायशास्त्र) के मार्गदर्शन और आज्ञाओं का पालन कानून की सीमाओं के भीतर रहकर करें और उन जानवरों की कुर्बानी से बचे, जो इस देश के कानून की दृष्टि से प्रतिबंधित है। महामारी के मौजूदा परिस्थितियों के मद्देनजर सड़कों पर सफाई, स्वच्छता और सड़कों पर कुर्बानी की पेशकश जैसे एहतियाती कदमों का भी ध्यान रखा जाना चाहिए।

शरिया परिषद ने ईद-उल-फितर के पूर्व उत्सव पर प्रतिबंधों के पालन करने के लिए समुदाय की सराहना करते हुए आगामी ईद-उल-अजहा त्योहार मनाते समय उसी तरह का रवैया अख्तियार करने का अनुरोध किया है। साथ ही समुदाय से ये भी अनुरोध किया है की जहां भी सरकार ने कोविद -19 के कारण प्रतिबंध लगाए हैं वहा ईद की प्रार्थना अपने घर पर ही करे।

यहां हम इस्लामिक मान्यताओं और पैगंबर के संदेशों की भी व्याख्या करेंगे। पैगंबर ने कहा हैं कि यदि आप किसी भूमि में प्लेग के बारे में सुनते हैं, तो उसमें प्रवेश न करें और अगर यह उस भूमि में होता है जहां आप हैं, तो इसे न छोड़ें। अल-बुखारी (5728) और मुस्लिम (2218)। उसी प्रकार ईद-अल-अजहा या बलिदान का त्यौहार या बकरीद (जैसा कि भारत में कहा जाता है) आने वाला है। इसे बलिदान का त्योहार कहा जाता है क्योंकि यह पैगंबर इब्राहिम की अल्लाह के प्रति समर्पण और उसके सबसे प्रिय चीज को त्यागने की उनकी तैयारी को याद कराता है। अल्लाह का यह आदेश केवल पैगंबर इब्राहिम की अपने स्वामी के प्रति बिना किसी सवाल के प्रतिबद्धता का परीक्षण था। उस दिन के बाद से दुनिया भर के मुसलमान बकरी, भेड़, ऊंट, भैंस या किसी अन्य जानवर को अल्लाह के नाम पर बलिदान देते हैं और उससे प्राप्त मांस को तीन समान भागों में बांटा जाता है। एक तिहाई स्वयं के लिए, एक तिहाई दोस्तों और रिश्तेदारों के लिए और एक तिहाई दान के लिए होता है।

इस बार का ईद कई अन्य ईद के विपरीत कोरोना महामारी के कारण विशेष है। हम सभी जानते हैं कि कोरोना महामारी के कारण सरकार ने सख्ती से नागरिकों को घर पर रहने और केवल आपात स्थिति में बाहर जाने की सलाह दी है। मुसलमानों, जिम्मेदार नागरिकों ने मई 2020 के महीने में ईद उल फितर समारोह के दौरान सोशल डिसटेंसिंग और होम क्वारंटाइन का असाधारण उदाहरण प्रस्तुत किया। उन्होंने सरकारी नियमों का पालन किया जिससे उन्हें कोरोना को दूर रखने में मदद मिली। ऐसा करके उन्होंने न केवल सरकारी नियमों का सम्मान किया बल्कि उन्होंने पैगंबर मुहम्मद की शिक्षाओं को भी बरकरार रखा।
हम एक ऐसे समाज में रहते हैं जहाँ लोग अलग-अलग धर्मों का पालन करते हैं और यह जरूरी है कि हर मुसलमान को दूसरे धर्मों का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि इस्लाम न केवल सह-अस्तित्व में विश्वास करता है बल्कि यह सहिष्णुता का भी धर्म है।
कुरान कहता है, निश्चित रूप से जो लोग विश्वास करते हैं और जो यहूदी हैं, ईसाई हैं, या फिर साबी हैं। जो कोई भी ईश्वर और अंतिम दिन में विश्वास करता है और अच्छा करता है, वे अपने भगवान से अपना इनाम लेंगे और उनके लिए कोई डर नहीं होगा। न ही वे शोक मनाएंगे। (पवित्र कुरान 2ः62)
उसी प्रकार हदीस बताता है, खबरदार! जो कोई भी गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यक पर क्रूर और कठोर है, या उनके अधिकारों पर पर्दा डालता है, या उन्हें जितना वे सहन कर सकते हैं, उससे अधिक बोझ देते हैं, या उनकी स्वतंत्र इच्छा के खिलाफ उनसे कुछ भी लेते हैं, मैं (पैगंबर मुहम्मद) उस व्यक्ति के खिलाफ प्रलय कि दिन मैं शिकायत करूंगा। (हदीसः अबू दाऊद)

कुरान और हदीस के कई अन्य छंद हैं जो मानव जाति के बीच सह-अस्तित्व के महत्व पर बल देते हैं। क्योंकि विविधता भगवान की इच्छा है और हमारे मतभेदों के बावजूद एक दूसरे के साथ शांति और सद्भाव में रहने के लिए एक परीक्षा है। यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि गाय की बलि देने से हमारे साथी भाइयों की भावनाओं को ठेस पहुँच सकती है इसलिए इससे बचना सबसे अच्छा है। यदि कोई कुरान की शिक्षाओं को देखता है, तो यह आसानी से निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि एक भेड़ का बच्चा बलिदान करना सबसे अच्छा विकल्प है, हालांकि, यदि भेड़ का बच्चा अनुपलब्ध है, तो किसी अन्य जानवर की बलि दी जा सकती है। कहीं भी गाय का त्याग करने का उल्लेख नहीं है। हमेशा की तरह, मुसलमानों को इस्लाम का सबसे अच्छा और सच्चा चेहरा पेश करना चाहिए और तुच्छ आधार पर धर्मों के बीच दुश्मनी पैदा करने वालो से बचना चाहिए।

इस कथन के बाद, यह स्पष्ट है कि कोई भी मित्रों और परिवार के साथ मिलकर इस त्योहार को एक साथ मानना चाहेगा। लेकिन सरकार के निर्देशों को ध्यान में रखते हुए ऐसा किया जाना चाहिए। हम यह कैसे करते हैं? भौतिक बैठकों को छोड़कर कुछ भी बदलने की आव्याशाकता नहीं है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि महामारी के कारण मस्जिदों में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, इसलिए, सभी को अपनी प्रार्थनाएं घर पर ही करनी चाहिए न कि एक स्थान पर जुट कर। यह महत्वपूर्ण है कि हम हमेशा सामाजिक दुरी को बनाए रखे, मानव संपर्क को कम करने के लिए समारोहों से बचें, केवल निर्दिष्ट स्थानों पर और निर्दिष्ट समय पर पशु की बलि देने की पूर्व व्यवस्था करें ताकि यह दूसरों के साथ संघर्ष का कारण न बने और क्षेत्र को साफ रखे और ऐसा करने के बाद, अगर किसी ने गलती से भी किसी को छुआ है तो हाथ धोये।
अभूतपूर्व समय के लिए अभूतपूर्व प्रयासों की आवश्यकता होती है। हर किसी को इस बीमारी से लड़ने के लिए न केवल खुद को बचाना चाहिए, बल्कि दूसरों की भी जान बचानी चाहिए। आइए ईद-अल-फितर की तरह, हम ईद-अल-अजहा को एक शांतिपूर्ण और सुरक्षित ईद बनाएं और इसे सच्चे मोमिन की तरह मनाएं।

नोट: इस्लामिक विद्वान मोहम्मद आलम नदवी के विचारों पर आधारित।

Leave a Reply