लॉकडाउन अवधि में किए गए राष्ट्रव्यापी सेवा व सहायता कार्यों को भाजपा ई-बुक बनाकर स्थायी धरोहर बनाएगी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा द्वारा कोरोना संक्रमण काल में भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए राष्ट्रव्यापी सेवा व सहायता कार्यों को ई-बुक के रूप में स्थायी दस्तावेज का स्वरूप प्रदान किए जाने की ऐतिहासिक व अभिनव पहल की है। इसी परिप्रेक्ष्य में ई-बुक निर्माण हेतु छत्तीसगढ़ में भी मंडल, जिला व प्रदेश स्तर पर समितियां बनाई गई हैं। भाजपा प्रदेश प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ई-बुक निर्माण समिति के प्रदेश संयोजक होंगे। संपूर्ण प्रदेश में इस कार्य को मूर्तरूप प्रदान करने प्रदेश समिति में किरण देव, अवधेश जैन व अभिजीत पांडे को बतौर सदस्य प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने नियुक्त किया है।

समिति के प्रदेश संयोजक श्री उपासने ने इस कार्य के संचालन हेतु विकेन्द्रीकृत व्यवस्था बनाते हुए संभागीय संयोजकों के रूप में बस्तर संभाग किरण देव, सरगुजा संभाग अनुरागसिंह देव, दुर्ग संभाग नवीन मार्कंडेय, बिलासपुर संभाग राजा पांडे को सौंपी है। रायपुर संभाग की जिम्मेदारी श्री उपासने स्वयं देखेंगे। संयोजक श्री उपासने ने बताया कि सभी 29 जिलों में चार सदस्यीय समिति, प्रदेश के सभी मंडलों में भी चार सदस्यीय समिति इस कार्य के तकनीकी स्वरूप को दृष्टिगत रखकर बनाई गई है। इन सभी समितियों के कार्यकर्ताओं का प्रशिक्षण 20 जुलाई तक संपन्न हो चुका है। श्री उपासने ने बताया कि बनने वाली ई बुक में मंडल समिति द्वारा मंडल क्षेत्र में किए गए सभी सेवा कार्यों के फोटोग्राफ, वीडियो, पेपर कटिंग आदि के साथ प्रदेश अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष व मंडल अध्यक्ष का संदेश, प्रस्तावना, उपसंहार भी शामिल किया जाएगा। इसी प्रकार जिला ई-बुक में जिलास्तर पर किए गए सेवा कार्य, कार्यक्रमों के साथ प्रदेश अध्यक्ष व जिलाध्यक्ष का संदेश होगा। इसी प्रकार प्रांतीय ई-बुक भी बनाई जा रही है।

समिति संयोजक श्री उपासने ने कहा कि सभी स्तरों पर ई-बुक निर्माण में भाजपा आईटी सेल के प्रदेश प्रभारी दीपक म्हस्के व उनकी टीम सक्रिय भूमिका का निर्वहन कर रही है और इस कार्य की संपूर्ण कार्यवाह, प्रशिक्षण व बैठकें वर्चुअल ही चल रही हैं। श्री उपासने ने कहा कि सभी स्तरों की ई-बुक निर्माण हेतु समय सीमा निर्धारित की गई है : जिला इकाई हेतु 30 जुलाई तक व मंडल इकाई हेतु 05 अगस्त तक ई-बुक तैयार कर ली जाएगी। प्रदेश ई-बुक का निर्माण कार्य पूर्णता की ओर है। श्री उपासने ने बताया कि यह एक ऐतिहासिक व स्थायी दस्तावेज होगा जो भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणादायी होगा।

Leave a Reply