मंदसौर: मध्य प्रदेश के मंदसौर में पुलिस फ़ायरिंग में पांच किसानों की मौत पर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही. मंदसौर जिले में पुलिस फायरिंग में मरने वाले किसानों के परिजनों से मिलने जा रहे वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और कांतिलाल भूरिया को पुलिस ने मंगलवार को उनके कई समर्थकों के साथ यहां जावरा के पास टोल नाके पर ऐहतियात के तौर पर हिरासत में ले लिया.

रतलाम जिले के पुलिस अधीक्षक अमित सिंह ने कहा, ‘हमने कांग्रेस नेताओं को पहले ही बता दिया था कि मंदसौर में धारा 144 लागू है, इसलिए उन्हें वहां नहीं जाने दिया जाएगा’. जावरा के नगर पुलिस अधीक्षक दीपक शुक्ला ने बताया, ‘पुलिस ने सिंधिया, भूरिया और विधायक महेन्द्र सिंह कालूखेड़ा सहित अन्य लोगों को धारा 151 के तहत हिरासत में लिया है’. इसके कुछ देर बाद उन्हें निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया।


हिरासत में लिए जाने से पहले मंदसौर जाने से रोके जाने पर कांग्रेस नेताओं ने वहां जाने की मांग करते हुए सड़क पर ही धरना दिया. सिंधिया ने कहा कि मंदसौर में धारा 144 लागू है तो वह अकेले ही वहां जा रहे हैं.. फिर भी उन्हें मंदसौर जाने से रोका जा रहा है, ‘यह हिटलरशाही’ है.