मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कौशल्या मंदिर,रामवनपथ गमन के निर्माण हेतु 150 करोड़ रु की घोषणा की भाजपा नेताओं को सांप सूंघ गया

राम की दुहाई देने वाले पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह रामायण कॉरिडोर में छत्तीसगढ़ जो जोड़ने पत्र प्रधानमंत्री को लिखेंगे

पंद्रह साल के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह राम भक्तों को जवाब दे कि राम वनपथ गमन की उपेक्षा क्यो किये

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अयोध्या के राम मंदिर निमार्ण पर बधाई दी पर पूर्व मुख्यमंत्री रमन कौशल्या मंदिर निर्माण पर चुप्पी साधे रखे है

पूर्व धर्मस्व और पर्यटनमंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने सैर सपाटे वाला मोर्टाल तो बनवाया पर राम वनपथ गमन के सर्वांगीण विकास के लिये ठेला खर्चा नही किया

क्या प्रदेश भाजपा मोदी-सरकार से राम वनपथ योजना को रामायण कॉरिडोर में शामिल करने को कहेंगे

रायपुर 07/08/2020 छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं सचिव विकास तिवारी ने भारतीय जनता पार्टी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और पूर्व धर्मस्व एवं पर्यटन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से सीधा सवाल पूछते हुए कहां है कि जिस प्रकार भाजपा आरएसएस और और विश्वहिंदू परिषद अयोध्या के राम मंदिर निर्माण का श्रेय लूटना चाह रहे हैं वही पिछले पंद्रह वर्षों से छत्तीसगढ़ राज्य जो कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की माता कौशल्या का मायके और राम भगवान राम का ननिहाल है उसकी उपेक्षा पूर्ववर्ती भाजपा सरकार,पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और पर्यटन एवं धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने उपेक्षित करके रखा था। कमीशन खोरी के भयंकर संक्रमण से ग्रसित पूर्ववर्ती रमन सरकार उन्हीं योजनाओं पर ध्यान रखती थी जिसमें कोटा कमीशन उन्हें प्राप्त हो सके।कौशल्या माता मंदिर निर्माण और राम वनपथ गमन को विकसित करने के लिए पूर्ववर्ती भाजपा सरकार ने ढेला भर का बजट स्वीकृत नहीं किया जाता था। वर्तमान में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा लगातार जन हितैषी कार्य किए जा रहे हैं उसे देख भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को सांप सूंघ गया है। कांग्रेस सरकार द्वारा माता कौशल्या के भव्य मंदिर के निर्माण हेतु लगभग चौदह करोड़ की राशि और राम वन गमन को विकसित करने के लिए लगभग 137 करोड़ों रुपए की राशि की घोषणा की गई है इस पर तथाकथित राम भक्त भाजपा नेता और आरएसएस के स्वयंसेवको ने चुप्पी साध रखा है।केंद्र की मोदी सरकार रामायण कॉरिडोर निर्माण योजना में प्रदेश भाजपा जोर क्यो छत्तीसगढ़ राज्य को शामिल करने हेतु प्रस्ताव नही दे रही है। और अपने आखरी के छः सालों के कार्यकाल पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने क्यों नहीं छत्तीसगढ़ राज्य में जो कि भगवान श्री राम का ननिहाल है और जहां पर भगवान श्री राम,माता सीता और लक्ष्मण जी ने वनवास का बहुत समय व्यतीत किया है इन स्थानों का पुनर्निर्माण,विकसित और उद्धृत करने का कार्य क्यों नहीं किया है जबकि पूर्व पर्यटन एवं धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने प्रदेश में पर्यटन की दृष्टि से मोटी कमाई करने के लिये मोर्टाल और अन्य पर्यटन स्थलों का निर्माण कराया जिसमे कॉरोडो-अरबो का बजट व्यय किया गया और राम वनपथ गमन के विकास के लिये ढेला मात्र के बजट का प्रावधान नहीं किया था जबकि भारतीय जनता पार्टी लगातार भगवान राम के नाम पर राजनीति कर अपना स्वार्थ सिद्धि कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने भारतीय जनता पार्टी के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से सवाल करते हुए कहा है कि क्या उनके द्वारा पत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा जायेगा जिसमे छत्तीसगढ़ राज्य के उन स्थलों को रामायण कॉरिडोर से जोड़ने का आग्रह किया जायेगा। एक और जहां देश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कौशल्या माता मंदिर और राम वनपथ गमन मार्ग के सर्वांगीण विकास के लिए दिन रात मेहनत कर रहे हैं और छत्तीसगढ़ सरकार प्रतिबद्ध है कि आने वाले वर्षों में कौशल प्रदेश छत्तीसगढ़ जो की मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम का ननिहाल है और माता कौशल्या का जन्म स्थल है वहां आकर पूरे देश और विदेश के राम भक्त कौशल्या माता की पतित पावन भूमि का दर्शन कर सकेंगे और भगवान राम,माता सीता और लक्ष्मण जी के वनपथ गमन मे भ्रमण कर अपने प्रभु को सुमिरन कर सकेंगे।

कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने भाजपा के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह और पूर्व पर्यटन एवं धर्मस्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से पूछा है कि कब तक केंद्र की मोदी सरकार को पत्र लिखकर रामायण कॉरिडोर निर्माण योजना में छत्तीसगढ़ राज्य के उन पवित्र स्थलों को जोड़ने हेतु पत्र लिखेंगे जिसमें चलकर भगवान राम माता सीता और लक्ष्मण जी ने वनवास का समय व्यतीत किया था और उस पत्र को कब प्रदेश की जनता के समक्ष जारी करेंगे इस बात का खुलासा भी तत्काल करना चाहिये।

Leave a Reply