मॉस्को। एक बार फिर आइएस सरगना अबू बकर अल-बगदादी के मारे जाने की खबरें सामने आई हैं। रूसी सेना ने पिछले माह सीरिया में देर रात लड़ाकू विमानों की कार्रवाई में बगदादी को मार गिराने का दावा किया है। फिलहाल रूसी सेना बगदादी के मारे जाने की पुष्टि करने में जुटी है। अमेरिका ने भी तत्काल बगदादी के मारे जाने की पुष्टि करने से इन्कार कर दिया। अगर यह दावा सही निकलता है तो दुनियाभर में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहे आतंकी संगठन के लिए यह बड़ा झटका हो सकता है।

सेना ने एक बयान में कहा कि सुखोई लड़ाकू विमानों ने 28 मई को राका के पास 10 मिनट तक लगातार हवाई हमले किए। यहां आइएस के नेताओं की बैठक चल रही थी। इसमें आइएस आतंकियों की परिषद के वरिष्ठ कमांडरों, 30 मध्य रैंक वाले कमांडर और 300 आतंकी मौजूद थे। इस हमले में सभी आतंकी मारे गए। इस बैठक में कथित तौर पर बगदादी भी मौजूद था। मारे गए आतंकियों में आइएस का सुरक्षा प्रमुख भी शामिल है। हालांकि, रूस के विदेश मंत्री सर्जेई लावरोव का कहना है कि वर्तमान स्थिति में बगदादी के मारे जाने की 100 फीसद पुष्टि नहीं की जा सकती।

आइएस पर पकड़ कमजोर
बगदादी को आखिरी बार तीन वर्ष पहले इराकी शहर मोसुल में सार्वजनिक रूप से देखा गया था। बगदादी की मौत को लेकर कई बार खबरें सामने आ चुकी हैं, लेकिन रूस की ओर से पहली बार ऐसा दावा किया गया है। उसे कई मौकों पर सीरियाई व इराकी सीमा के पास भी देखा गया है। ये भी खबरें थीं कि बगदादी एक हमले में गंभीर रूप से घायल हो गया था, जिसके बाद उसने आइएस के अन्य शीर्ष नेताओं को आतंकी संगठन की कमान सौंप दी थी।