कोच्चिः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कोच्चि मेट्रो का उद्घाटन किया। इस मौके पर मोदी ने मेट्रो का सफर भी किया। जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में हो रहे इस उद्घाटन समाराेह में पीएम मोदी के साथ मंच पर वेंकैया नायडू, गवर्नर पी. सतशिवम, सीएम पी. विजयन, असेंबली में अपोजिशन के लीडर रमेश चेन्निथला, एर्नाकुलम के सांसद केवी थॉमस और मेट्रो मैन ई. श्रीधरन मौजूद रहे।

पहले मेट्रो मैन का नाम लिस्ट में नहीं था, जिसका विरोध हुअा था।

उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री की एक सार्वजनिक सभा हुई, जहां उन्होंने कहा कि कोच्चि मेट्रो के कोच ‘मेक इन इंडिया’ विजन को दर्शाते हैं। इनमें इस्तेमाल 70 फीसदी उपकरण भारत में बने हैं। इस क्षेत्र में विदेशी निवेश को भी आमंत्रित किया गया है।

मोदी ने कहा कि इस मेट्रो के शुरू होने से करीब 1000 महिलाओं और 23 ट्रांसजेंडरों को रोजगार मिलेगा।

कोच्चि मेट्रो से जुड़ी कुछ खास बातेंः-

1) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोच्चि मेट्रो के पहले यात्री बने है।
2) कोच्चि मेट्रो का पहला फेज 13.2 किलोमीटर का होगा। इसका विस्तार 25 किलोमीटर तक किया जाना है।
3) 2013 में शुरू हुए इस प्राेजेक्ट पर कुल 5,180 करोड़ रुपए के खर्च का अनुमान लगाया गया है।
4) 13 किलोमीटर के दायरे में 11 स्‍टेशन और विस्‍तार होने के बाद 25 किलोमीटर के दायरे में 22 स्‍टेशन होंगे।
5) मेट्रो चलने से अलुवा और पलरिवतोम की दूरी तय करने में महज 23 मिनट का समय लगेगा, जोकि सड़क मार्ग से यह दूरी 45 मिनट में तय किया जाता रहा है।
6) मेट्रो में न्‍यूनतम भाड़ा 15 रुपए और अधिकतम भाड़ा 30 रुपया होगा।
7) यह देश की पहली मेट्रो है, जिसमें कम्यूनिकेशन आधारित ट्रेन कंट्रोल टेक्नॉलजी का इस्तेमाल किया गया है। इसका मकसद फ्रीक्वेंसी को बढ़ाना और त्रुटियों को कम करना है।
8) कोच्चि मेट्रो की सबसे खास बात है कि इसके हर स्टेशन किसी खास थीम पर आधारित होंगे। ये थीम समुद्री इतिहास, पश्चिमी घाट और शहर के इतिहास से संबंधित होंगे।