कोविड-19 समाधानों का संयुक्त रूप से पता लगाने के लिए भारत-अमेरिका वैज्ञानिकों की 11 टीमों का चयन किया गया

नई दिल्ली : भारत और अमेरिका के वैज्ञानिकों की 11 टीमें जल्द ही नोवेल आरंभिक डायग्नोस्टिक जांचों, एंटीवायरल थेरेपी, ड्रग रिपर्पोजिंग, वंटीलेटर अनुसंधान, डिइंफेक्शन मशीनें और कोविड-19 सेंसर आधारित लक्षण ट्रैकिंग से लेकर अनूठे समाधानों का संयुक्त रूप से पता लगाएंगी।

इन टीमों का चयन अमेरिका भारत विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी इनडाउमेंट फंड (यूएसआईएसटीईएफ) द्वारा जारी अप्रैल 2020 में कोविड-19 इग्निशन ग्रांट्स के तहत एक आमंत्रण के लिए प्राप्त आवेदनों की एक सख्त द्विराष्ट्रीय समीक्षा प्रक्रिया के जरिये इन पहलों को आरंभ करने के लिए किया गया है।

यूएसआईएसटीईएफ ने कोविड-19 चुनौतियों के समाधान के लिए अनूठे, नवोन्मेषी विचारों का प्रस्ताव रखते हुए ग्यारह द्विपक्षीय टीमों को तय किया है। यूएसआईएसटीईएफ की स्थापना भारत सरकार (विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के जरिये) तथा संयुक्त राज्य अमेरिका (विदेश मंत्रालय) के जरिये संयुक्त गतिविधियों के संवर्धन के लिए की गई है जिससे विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोग के माध्यम से नवोन्मेषण एवं उद्यमशीलता को बढ़ावा मिलेगा।

अमेरिका-भारत एसएंडटी आधारित संयुक्त उद्यमशील टीमें उन पहलों पर कार्य करेंगी जो निगरानी, डायग्नोसिस, स्वास्थ्य एवं सुरक्षा, लोक संपर्क, सूचना एवं संचार सहित कोविड-19 संबंधित चुनौतियों के समाधान के लिए नई प्रौद्योगिकियों, टूल्स एवं प्रणालियों का समाधान करेंगी।

दुनिया के देश जहां कोविड-19 महामारी से लड़ रहे हैं, विज्ञान, अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी में नवोन्मेषण नए टीकों, डिवाइसों, डायग्नोस्टिक टूल्स एवं सूचना प्रणालियों तथा इस महामारी से लड़ने के लिए समुदायों तथा देशों को संसाधनों को प्रबंधित तथा तैनात करने में मदद करने के लिए कार्यनीतियों के विकास के जरिये इस वैश्विक चुनौती का समाधान ढूंढने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

इसके मिशन एवं विजन को ध्यान में रखते हुए यूएसआईएसटीईएफ ने कोविड-19 चुनौती के समाधान के लिए अमेरिका-भारत एसएंडटी आधारित आशावान संयुक्त उद्यमशील पहलों की सहायता के इरादे से कोविड-19 इग्निशन ग्रांट्स के वर्ग के तहत प्रस्तावों की घोषणा की।

अमेरिका भारत विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी इनडाउमेंट फंड का मिशन इस महामारी से लड़ने में सहायता करने के लिए अमेरिकी एवं भारतीय शोधकर्ताओं तथा उद्यमियों के बीच साझीदारी के जरिये विकसित प्रौद्योगिकी के व्यवसायीकरण के माध्यम से सार्वजनिक हित सृजित करने के लिए संयुक्त अनुप्रयुक्त अनुसंधान एवं विकास की सहायता करना एवं उसे बढ़ावा देना है।

द्विपक्षीय भारत-अमेरिका विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी फोरम (आईयूएसएसटीएफ) यूएसआईएसटीईएफ प्रोग्राम की सभी गतिविधियों को प्रबंधित करते हैं।

Leave a Reply