उत्तरप्रदेश : मुख्यमंत्री ने मेडिकल काॅलेज, गोरखपुर में हाॅस्टल तथा गेस्ट हाउस का लोकार्पण किया

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी नेआज बी0आर0डी0 मेडिकल कॉलेज, गोरखपुरमें 300 शै ̧यायुक्त एल-3 कोविड चिकित्सालय, बी0एस0एल0-3 लैब, 100 बेड पी0जी0 हॉस्टल तथा गेस्ट हाउस का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि समय-सीमा के अन्दर पूर्वान्चल वासियों के लिएमेडिकल कॉलेज के बाल चिकित्सासंस्थान मेंइस कोविड अस्पताल का निर्माण किया गया है।साथ ही,प्रदेश का पहला बॉयोसेफ्टी लेवल-3 लैब का भी शुभारम्भ किया गया है।मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस पूरे परिक्षेत्र में लेवल-3 का बी0आर0डी मेडिकल कॉलेज में 200 बेड का अस्पताल था। 300 अतिरिक्त बेड के अस्पताल की स्थापना से बेडों की संख्या बढ़कर 500 हो गयी है।

इस कोविड अस्पताल में 100 आई0सी0यू0बेड्सतथा 200 आइसोलेशन बेड्सहैं।इस अस्पताल में 72 वेन्टीलेटर, 50 एच0एफ0एन0सी0तथा 200 इन्फ्यूजन पम्प सहित मोबाइल डिजीटल एक्स-रे मशीन, पोर्टेबल अल्ट्रासाउण्ड मशीन सहित मॉनीटर, पल्स ऑक्सीमीटर आदि उपलब्ध हैं। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 300 बेड के चिकित्सालय कानिर्माणहो जाने से गोरखपुर तथा आसपास के क्षेत्रों के मरीजों को बेड की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी।उन्होंने कहा कि कोविड किसी एक विभाग की लड़ाई नहींहै,बल्कि पूरे प्रदेश की लड़ाई है।इसमें आमजन के साथ-साथ सभी को एकजुट होकर लड़ना है और लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करनीहै। उन्हांने कहा कि प्रदेश केपहलेबी0एस0एल0-3 लैब काउद्घाटन हो जाने से जांच की क्षमता में वृद्धि होगी।

कोरोना संक्रमण जांच की संख्या लगातार बढ़ रही है।प्रदेश में विगत दिवस एक लाख55 हजार लोगों की कोविड-19 की जांच की गयी। प्रदेश सरकार कोरोना से पूरी मजबूती के साथ लड़ रही है, जिसका परिणाम है कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव दर तथा मृत्यु दर कम है तथा रिकवरी रेट बेहतर है।मुख्यमंत्री जी ने कोविड अस्पतालों में कार्य करने वालों से आह्वान किया कि मानवता की सेवा का जो अवसर उन्हें मिला है, अपने कार्यों के साथ-साथ मरीज के परिवार के एक सदस्य के रूप में भूमिका का निर्वहन करते हुए मरीजों को स्वस्थ्य करके घर भेजना है। जब तकदवाया वैक्सीन नहीं आ जाती तब तक हमें पूरी मेहनत से इसलड़ाई को जीतना है। उन्होंने कहा कि सीनियर डॉक्टर वॉर्डों में अनिवार्य रूप से बेड टू बेड राउण्ड लगायेंऔर मरीजों को बेहतर इलाज उपलब्ध करायें,जिससे मृत्यु दर और कम हो तथा लोगों में विश्वास पैदा हो। जिला प्रशासन साफ-सफाई की व्यवस्था सुनिश्चित करे।होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना मरीजों से प्रतिदिन दो बार सम्पर्क किया जाये।

गम्भीर मरीजों को तत्काल अस्पताल पहुंचाने के साथ ही डोर टू डोर सर्वे तथा कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग गहनता से कीजाये।मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हमें प्रत्येक नागरिक का ध्यान रखना होगा और अनलॉक-4 में कन्टेनमेन्ट ज़ोन को छोड़कर अन्य जगहों पर सभी आर्थिक गतिविधियां प्रारम्भ की जायें। उन्होंने कहा कि अस्पतालों में कोविड के अलावा अन्य बीमारियों का भी इलाज मरीजों को मिले।होटल,रेस्टोरेन्ट तथा बाजारों के संचालन के लिए जनपदस्तर पर बैठक कर कार्ययोजना बनायीजाये। आर्थिक गतिविधियों को तेजी से बढ़ाने के साथ ही कोरोना संक्रमण के प्रति लोगों को जागरूक किया जाये, क्योंकि सावधानी रखकर ही कोरोना से बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में कोरोना से बचाव के लिए मजबूती से लड़ाई लड़ीजा रहीहै। विभिन्न जनप्रतिनिधियों तथा सामाजिक संगठनों की मदद लेकर लोगों को ‘दो गज की दूरी और मास्क है जरूरी’के प्रति जागरूक किया जाये।

इस अवसर पर सांसद श्री रविकिशन तथा श्रीकमलेश पासवान, विधायक श्रीमहेन्द्र पाल सिंह, विधायक श्री विपिन सिंह, विधायकश्रीशीतल पाण्डेय, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री रजनीश दूबे,मण्डलायुक्त श्री जयन्त नार्लिकर, जिलाधिकारीश्रीके0 विजयेन्द्र पाण्डियन सहित प्रधानाचार्य मेडिकल कॉलेज डॉ0 गणेश कुमार एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे

Leave a Reply